loksabha

    नयी दिल्ली: पेगासस जासूसी मामला (Pegasus Row) और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दोपहर करीब 12:10 बजे दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। विपक्षी सदस्यों के शोर-शराबे के बीच ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ‘न्यायाधिकरण सुधार विधेयक, 2021′ पेश किया।  

    सुबह सदन की कार्यवाही आरंभ होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने ओलंपिक खेलों में स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधू के कांस्य पदक जीतने का उल्लेख किया और बधाई दी जिस पर सभी सदस्यों ने मेजें थपथपाईं। बिरला ने जैसे ही प्रश्नकाल शुरू करवाया, वैसे ही विपक्षी सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के निकट पहुंच गए। उन्होंने ‘जासूसी करना बंद करो’ और ‘प्रधानमंत्री जवाब दो’ के नारे लगाए।

    कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और कुछ अन्य दलों के सदस्यों की नारेबाजी के बीच ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी, जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा और पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने पूरक प्रश्नों के उत्तर दिए। सदन में हंगामा जारी रहने पर अध्यक्ष बिरला ने सदस्यों से अपने स्थान पर जाने और कार्यवाही चलने देने की अपील की।   

    उन्होंने कहा, ‘‘देश की जनता ने आप को चुनकर भेजा है। दो सप्ताह से सदन की कार्यवाही बाधित हो रही है। जनता का करोड़ों रुपये खर्च हो रहा है। यह सदन चर्चा के लिए है, नारेबाजी के लिए नहीं। आप नारेबाजी कर रहे हैं और तख्तियां दिखा रहे हैं। यह ससंदीय परंपराओं के लिए उपयुक्त नहीं है। आप अपने स्थान पर जाइए, आपको चर्चा का पूरा समय दिया जाएगा।” हंगामा नहीं थमने पर उन्होंने करीब 11 बजकर 40 मिनट पर सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।   

    बैठक पुन: शुरू हुई तो कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के सदस्य नारेबाजी करते हुए और तख्तियां लहराते हुए आसन के समीप आ गए। स्थिति ज्यों की त्यों बनी रही। हंगामे के बीच ही पीठासीन सभापति किरीट सोलंकी ने आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ‘न्यायाधिकरण सुधार (युक्तिकरण और सेवा शर्तें) विधेयक’  को वापस लिया और हंगामे के बीच ही ‘न्यायाधिकरण सुधार विधेयक, 2021′ पेश किया। 

    विधेयक पेश किये जाने का विरोध करते हुए सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार विपक्ष के अधिकारों का दमन करते हुए एक के बाद एक विधेयक हंगामे में पारित करा रही है।  उन्होंने कहा, ‘‘हम चर्चा चाहते हैं। लेकिन शुरुआत में पेगासस मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए।”  

    पीठासीन सभापति सोलंकी ने आसन के समीप प्रदर्शन कर रहे विपक्षी सदस्यों से अपने स्थानों पर जाने का आग्रह किया लेकिन हंगामा नहीं थमा और उन्होंने सदन की कार्यवाही दोपहर करीब 12:10 बजे अपराह्न दो बजे तक स्थगित कर दी। (एजेंसी)