Prime Ministe Narendra Modi Said Opposition also knows that NDA will form the government
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो )

Loading

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार को जम्मू, बोधगया और विशाखापत्तनम में तीन भारतीय प्रबंधन संस्थानों (IIM) के परिसरों का उद्घाटन किया तथा तीन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (IIT), 20 केंद्रीय विद्यालयों और 13 नवोदय विद्यालयों के लिए स्थायी परिसरों सहित 13,375 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी।  प्रधानमंत्री ने जम्मू के मौलाना आज़ाद स्टेडियम में एक सार्वजनिक समारोह में परिसरों और भवनों का लोकार्पण, उद्घाटन एवं शिलान्यास किया।

उन्होंने इस अवसर पर कहा, “इतने बड़े पैमाने पर शिक्षा और कौशल विकास क्षेत्रों में उन्नति 10 साल पहले दूर की कौड़ी थी। लेकिन यह नया भारत है… आज की सरकार वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों की आधुनिक शिक्षा के लिए अधिकतम खर्च करती है।”  मोदी ने कहा, “पिछले 10 वर्षों में, देश में रिकॉर्ड संख्या में स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय बने हैं जिनमें जम्मू-कश्मीर में 50 नए डिग्री कॉलेज भी शामिल हैं। लगभग 45,000 बच्चे, जो स्कूल नहीं जाते थे, उन्हें अब स्कूलों में दाखिला मिला है और छात्राओं को शिक्षा के लिए दूर जाने की जरूरत नहीं है।”

राष्ट्र को समर्पित परियोजनाओं में आईआईटी-भिलाई, आईआईटी-तिरुपति, आईआईटी-जम्मू, आईआईआईटीडीएम-कांचीपुरम, भारतीय कौशल संस्थान (आईआईएस)- कानपुर के लिए स्थायी परिसर और उत्तराखंड के देवप्रयाग तथा त्रिपुरा के अगरतला में केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए दो परिसर शामिल हैं। मोदी ने देश भर में केंद्रीय विद्यालयों (केवी) के लिए 20 नए भवनों और 13 नए नवोदय विद्यालय (एनवी) भवनों का भी उद्घाटन किया।   केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ओडिशा की संबलपुर गौशाला में पीएम-एसएचआरआई जवाहर नवोदय विद्यालय से इस कार्यक्रम में डिजिटल रूप से भाग लिया। बिहार के लिए, प्रधानमंत्री ने 466 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से निर्मित आईआईटी-पटना के 24 नए शैक्षणिक और आवासीय भवनों का उद्घाटन किया।

इनमें एक केंद्रीय पुस्तकालय, एक सभागार, एक केंद्रीय व्याख्यान कक्ष और शैक्षणिक भवन, एक छात्र गतिविधि केंद्र, छात्रावास और शिक्षकों एवं कर्मचारियों के लिए आवासीय क्वार्टर शामिल हैं। मोदी ने 25 जुलाई 2015 को आईआईटी-पटना परिसर का उद्घाटन किया था। वर्ष 2015 में स्थापित संस्थान एक अस्थायी परिसर से कार्य कर रहा था। पूर्ण विकसित नया परिसर 400 करोड़ रुपये से अधिक की अनुमानित लागत से 60,000 वर्ग मीटर से अधिक क्षेत्र में तैयार किया गया है। प्रधानमंत्री ने आईआईटी-भिलाई और छत्तीसगढ़ में दो नवनिर्मित केवी भवनों का भी उद्घाटन किया।

परिसर में उद्घाटन समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव साई, दुर्ग से सांसद विजय बघेल, आईआईटी-भिलाई के संचालन मंडल के अध्यक्ष के. वेंकटरमण और संस्थान के निदेशक प्रोफेसर राजीव प्रकाश उपस्थित थे। प्रधानमंत्री ने आईआईटी-दिल्ली में अकादमिक कॉम्प्लेक्स ईस्ट और अकादमिक कॉम्प्लेक्स वेस्ट का भी उद्घाटन किया। केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी राष्ट्रीय राजधानी में इस कार्यक्रम में शामिल हुईं। दोनों बहुमंजिला परिसरों को 260 करोड़ रुपये की लागत से विकसित किया गया है। मोदी ने कहा, “आईआईएम-जम्मू जैसे प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना एक परिवर्तनकारी दृष्टिकोण का उदाहरण है, जो गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को घर के करीब लाती है और जम्मू-कश्मीर के युवाओं को राष्ट्रीय स्तर पर सशक्त बनाती है।” प्रधानमंत्री ने आईआईटी बंबई अनुसंधान पार्क भवन का भी उद्घाटन किया और प्रमुख संस्थान के शैक्षणिक और आवासीय भवनों की आधारशिला भी रखी।