prashant-kishore

    चंडीगढ़. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने बृहस्पतिवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) के मुख्य सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया। किशोर ने ऐसे समय में इस्तीफा दिया है, जब पंजाब विधानसभा चुनाव में एक साल से भी कम का समय रह गया है। किशोर ने 2017 चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई थी।

    उन्होंने सिंह के लिए समर्थन जुटाने के लिए ‘‘पंजाब दा कैप्टन” जैसे अभियान चलाए थे। किशोर ने मुख्यमंत्री को बृहस्पतिवार को लिखे एक पत्र में कहा, ‘‘ अस्थायी रूप से सार्वजनिक जीवन में खुद को अलग करने के मेरे निर्णय को देखते हुए, मैं आपके मुख्य सलाहकार के रूप में जिम्मेदारियों को संभालने में सक्षम नहीं हूं। मैंने अभी तक अपने भिवष्य को लेकर कोई फैसला नहीं किया है, इसलिए मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मुझे इस जिम्मेदारी से मुक्त करें। मैं, मुझे सेवाएं देने का मौका देने के लिए आपका धन्यवाद भी करना चाहता हूं।”

    मुख्यमंत्री ने मार्च में किशोर को अपना प्रमुख सलाहकार नियुक्त किया था और उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान किया था। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी एक अधिसूचना में कहा गया था कि किशोर एक रुपये का सांकेतिक मानदेय लेंगे।