प्रधानमंत्री मोदी ने वायुसेना को सौंपा हल्के कॉम्बैट हेलीकॉप्टर, कहा- सेना को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम जारी

    झाँसी: तीन दिन के उत्तर प्रदेश दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झांसी पहुंचे। इसके बाद पीएम मोदी ने राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व के संबोधित किया। इस दौरान पीएम ने औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना को एचएएल के हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर, डीआरडीओ द्वारा डिजाइन और भारतीय नौसेना को नौसेना के जहाजों के लिए बीईएल-निर्मित उन्नत इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट, और भारतीय सेना को भारतीय स्टार्टअप द्वारा विकसित ड्रोन/यूएवी सौंपे।

    इस दौरान मेजर ध्यानचंद को याद करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा, “आज मैं झांसी के बेटे मेजर ध्यानचंद को याद करना चाहता हूं, जिन्होंने भारतीय खेलों को दुनिया भर में पहचान दिलाई। कुछ समय पहले, हमारी सरकार ने खेल रत्न पुरस्कारों का नाम मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखा।”

    उन्होंने कहा, “खेल खेल खेल खेल खेल में देश एक नया अध्याय शुरू करना है। भारत डायनेमिक्स लिमिटेड के नए देश की आधारशिला नई है। यह कंपाउंड कॉमरिडोर के झाँसी को एक नई सेटिंग।”

    बुंदेलखंड बनेगा निवेश का आकर्षण केंद्र

    उत्तर प्रदेश डिफेंस कॉरिडोर की चर्चा करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “यूपी डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का झांसी नोड एमएसएमई और छोटे उद्योगों के लिए नए अवसर खोलेगा, युवाओं को रोजगार के नए अवसर प्रदान करेगा। इसका मतलब है कि पलायन की दुर्दशा झेल रहा क्षेत्र अब निवेश का आकर्षण बनेगा।”

    उन्होंने कहा, “आज भारत अपनी सशस्त्र सेना को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम कर रहा है। हम देश में निजी प्रतिभाओं को रक्षा क्षेत्र से जोड़ रहे हैं। स्टार्टअप्स को भी रक्षा क्षेत्र में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका दिया जा रहा है।”

    मोदी ने कहा, “यूपी डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर में ‘सारथी’ की भूमिका निभाने जा रहे हैं बुंदेलखंड. कभी अपने साहस और वीरता के लिए जाना जाने वाला बुंदेलखंड अब भारत की रक्षा शक्ति के एक प्रमुख केंद्र के रूप में भी पहचाना जाएगा।”

    साथ आएं और कुछ करने का संकल्प लें

    एनसीसी एलुमनाई एसोसिएशन की शुरुआत और सदस्यता लेने के बाद पीएम मोदी ने कहा, “मैं सभी पूर्व एनसीसी कैडेटों से एनसीसी एलुमनाई एसोसिएशन से जुड़ने की अपील करता हूं। आइए हम एक साथ आएं और देश के लिए कुछ करने का संकल्प लें।”

    राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व में शामिल होने से पहले प्रधानमंत्री झांसी स्थित किले में पहुंचे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने रानी लक्ष्मीबाई की मूर्ति का अनावरण किया। इसी के साथ पीएम मोदी पहले प्रधानमंत्री बने जो इस किले में पहुंचे हैं।