TMC Leader Attacked
ANI Photo

Loading

कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के उत्तर 24 परगना (North 24 Parganas) जिले में संकटग्रस्त संदेशखालि (Sandeshkhali) के कुछ हिस्सों में शुक्रवार को सुबह फिर से विरोध प्रदर्शन हुए और आगजनी हुई। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता अजीत मैती के घर पर हमला किया। वहीं, पुलिस ने सांसद लॉकेट चटर्जी हिरासत में ले लिया।

नाराज स्थानीय लोगों ने इलाके में जबरन जमीन हड़पने एवं महिलाओं का यौन शोषण करने के आरोपी तृणमूल कांग्रेस नेताओं की संपत्तियों में आग लगा दी। टीएमसी के स्थानीय नेताओं के घरों में भी भीड़ ने तोड़फोड़ की। लाठियों से लैस प्रदर्शनकारियों ने संदेशखालि के बेलमाजुर इलाके में मछली पकड़ने के एक यार्ड के पास छप्पर वाले ढांचे को आग लगा दी और फरार तृणमूल नेता शाहजहां शेख एवं उनके भाई सिराज के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया। पता चला है कि जलाया गया ढांचा सिराज का था। एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “पुलिस ने वर्षों तक कुछ नहीं किया। यही कारण है कि हम अपनी जमीन और सम्मान वापस पाने के लिए सब कुछ कर रहे हैं।”

पुलिस ने दिया कार्रवाई का भरोसा

पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) राजीव कुमार मौके पर पहुंचे और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया। कुमार दोपहर में अशांत क्षेत्र में पहुंचे और स्थानीय लोगों से बात की। कुमार ने स्थानीय लोगों से कहा, “आप अपनी शिकायत दर्ज कराएं। हम कार्रवाई करेंगे। हम यहां पुलिस कैंप स्थापित करेंगे। लेकिन मैं आप सभी से अनुरोध करूंगा कि कृपया कानून अपने हाथ में न लें।” संवाददाताओं से बात करते हुए कुमार ने कहा, “पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी। हम क्षेत्र में कानून का राज स्थापित करेंगे।”

BJP सांसद लॉकेट चटर्जी पुलिस हिरासत में

उधर, पुलिस ने छह महिला नेताओं सहित भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल को रोक दिया, जिससे पुलिस और पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच तीखी बहस हुई। इसके बाद भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। हालांकि, उन्हें कुछ समय बाद लाल बाजार से रिहा कर दिया गया। चटर्जी ने कहा, “मुझे कुछ नहीं बताया गया, कोई कागज नहीं दिखाया गया। पुलिस ने कहा कि संदेशखाली में धारा 144 है। 40 किलोमीटर पहले ही मुझे हिरासत में लिया गया। एक सांसद को बिना अनुमति के हिरासत में नहीं लिया जा सकता लेकिन पश्चिम बंगाल में ये संभव है। हमें पार्टी जैसा कहेगी हम वही करेंगे। पश्चिम बंगाल में कोई लोकतंत्र नहीं है।”

अत्याचार कर रही पुलिस

वहीं, पश्चिम बंगाल बीजेपी महिला मोर्चा की अध्यक्ष फाल्गुनी पात्रा ने कहा, “जो लोग लूटे जा रहे हैं, पुलिस उन पर अत्याचार कर रही है। ये है बंगाल का सच…कोई भी सुरक्षित नहीं है। हमें वहां जाने से रोका जा रहा है क्योंकि वो नहीं चाहते कि सच्चाई सामने आए। यहां महिलाएं हमसे बात करने की कोशिश कर रही हैं लेकिन पुलिस उन्हें डरा रही है।”

क्या है मामला

संदेशखालि में स्थानीय महिलाओं ने शाहजहां शेख और उनके समर्थकों पर जबरदस्ती जमीन हड़पने और यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है जिसके बाद से यह जगह सुर्खियों में है। प्रवर्तन निदेशालय अधिकारियों के दल पर पांच जनवरी को भीड़ ने उस समय हमला कर दिया था जब उसने पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के संदेशखालि में शाहजहां के आवास में प्रवेश करने की कोशिश की थी। शाहजहां तभी से फरार है। (एजेंसी इनपुट के साथ)