photo Credit tiwtter-ANI
photo Credit tiwtter-ANI

    नई दिल्लीः बीजेपी की नूपुर शर्मा को लेकर विवादित वीडियो वायरल मामले में अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती (Khadim Salman Chishti) को लेकर नया मामला सामने आया है। इस मामले में एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें, अजमेर शरीफ दरगाह के डीएसपी संदीप सारस्वत आरोपी का बचाव करते दिखाई दे रहें हैं।

    संदीप सारस्वत ( Deputy Superintendent of Police Sandeep Saraswat) उक्त वीडियों में सलमान चिश्ती से पूछते नजर आ रहे हैं कि आपने वीडियो बनाते समय कौन सा नशा किया था पूछेंगे, तो बोल देना नशे में था। इस वीडियो में सलमान चिश्ती को समझाने वाले लहजे में यह सवाल करते हुए बचने का रास्ता बताते अधिकारी दिख रहें हैं। यह मामला अब तूल पकड़ लिया है हर जगह पुलिस के कामकाज पर सवाल उठ रहा है।

    आपको बता दें कि, इस पुरे मामले में पुलिस मुख्यालय की ओर से जांच का आदेश जारी कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि डीएसपी ने आरोपी सलमान चिश्ती का बचाव करते हुए कहा था कि, बोल देना नशे में था, ताकि बच जाए। पुलिस की इस तरह की संदिग्ध कार्यप्रणाली पर अब सवालिया निशान उठ रहें हैं। बैरहाल आरोपी को कोर्ट ने 2 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा हैं। इस पुलिसिया कार्रवाई का वीडियो वायरल होने पर मामला तूल पकड़ते ही उच्च अधिकारीयों द्वारा जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

     गौरतलब है कि, अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती (Ajmer Dargah Khadim Salman Chishti) सलमान दरगाह थाना इलाके का हिस्ट्रीशीटर है। पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। मामले तूल पकड़ते ही मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस विभाग ने डीएसपी संदीप सारस्वत (DSP Sandeep Saraswat) को हटाकर उन्हें एपीओ के पद पर कर आगे जांच के आदेश दिए हैं। ऐसे में अब डीएसपी को जांच के बाद क्लीन चिट मिलती है या वे आरोपी से मिले हुए साबित होते हैं इस जानकारी की सबको इंतजार रहेगा।