bullet-train

    नयी दिल्ली. अब देश में हाई स्पीडबुलेट ट्रेन (High Speed Bullet Train) चलाने वाली संस्था, नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NHSRCL) ने यह भी उम्मीद जताई है कि आगामी सितंबर में दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर की फाइनल DPR(डीटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार हो जाएगा।  जी हाँ ख़बरों की मानें तो दिल्ली के सराय काले खां से शुरू होकर, PM मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी तक करीब 865 किलोमीटर रूट पर बुलेट ट्रेन की फाइनल DPR रिपोर्ट अगले महीने सितंबर तक पेश की जाएगी। 

    दरअसल यमुना एक्सप्रेसवे पर बनने वाले जेवर एयरपोर्ट को देखते हुए अब बुलेट ट्रेन के DPR को एयरपोर्ट से लिंक करने की भी एक अलग रूपरेखा तैयार की जा रही है।  इसके साथ ही इस रूट की शुरुआत दिल्ली के सराय काले खां से होगी, नोएडा के सेक्टर-144 में UP का पहला स्टेशन बन सकता है।  वहीं बुलेट ट्रेन का दूसरा स्टेशन जेवर इंटरनेशनल एयपोर्ट ही होगा। 

    दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर पर ये हो सकते हैं 12 महत्वपूर्ण स्टेशन 

    इसके साथ ही ये भी कयास लगाये जा रहे हैं कि दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर पर अब कुल 12 स्टेशन हो सकते हैं।  करीब 865 किलोमीटर से कुछ ज्यादा की दूरी के लिए इसका रूट दिल्ली से शुरु होकर नोएडा होते हुए मथुरा, आगरा, इटावा, कन्नौज, लखनऊ, अयोध्या, रायबरेली, प्रयागराज, भदोही और वाराणसी रहेगा।  

    इतना ही नहीं इस कॉरिडोर पर बुलेट ट्रेन, एलिवेटेड लाइन पर चलेगी जिसकी ऊंचाई करीब 10 मीटर होगी।  इस कॉरिडोर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि दिल्ली से शुरु होकर PM मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी तक जाने में यह ट्रेन रामलला की नगरी अयोध्या से भी होकर गुजरेगी।  जिसके चलते अब इस बुलेट ट्रेन की योजना धरातल पर आने के बाद दिल्ली से अयोध्या और वाराणसी तक जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए यह यात्रा बेहद अहम होने वाली है।  दिल्ली से वाराणसी तक की यात्रा को पूरा करने में महज 4 घंटे लगेंगे, ऐसी भी उम्मीद भी जताई जा रही है। 

    इन रूटों पर हो रहा है बुलेट ट्रेन योजना का सर्वे- 

    •  वाराणसी-हावड़ा (करीब 760 किलोमीटर) 
    •  मुंबई-नागपुर (करीब 753 किलोमीटर) 
    •  दिल्ली-अहमदाबाद (करीब 866 किलोमीटर) 
    •  चैन्नई-मैसूर (करीब 435 किलोमीटर) 
    •  दिल्ली-अमृतसर (करीब 459 किलोमीटर) 
    •  मुंबई-हैदराबाद (करीब 711 किलोमीटर) 

    इन सभी रुटों के सर्वे का काम जोर शोर से चल रहा है।  सर्वे पूरा होते ही नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड दिसंबर 2023 तक चरणबद्ध तरीके से इन सभी रूटों के DPR भी रेल मंत्रालय को सौंप देगी। 

    कितना हो सकता है यात्रा खर्चा 

    अब अगर आप राजधानी दिल्ली से अयोध्या तक हाई स्पीड बुलेट ट्रेन में सफर करना चाहते हैं तो आपकी जेब पर एक तरफ के किराये का भार 3000 रुपये से कम का पड़ेगा। वहीं दिल्ली से आगरा तक जाने के लिए आपको 1200 रुपये खर्चने पड़ सकते हैं। साथ ही दिल्ली से आगरा तक जाने के लिए 1200 रुपये खर्चने हो सकते है । दरअसल सूत्रों के मुताबिक नैशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NHSRCL) की एक रिपोर्ट के अनुसार, आपको यह खर्च वंदे भारत एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों से कुछ ही अधिक पड़ेगा।

    इसी तरह से दिल्ली से लखनऊ तक के सफर की अगर बात करें तो 2300 और वाराणसी तक 3400 रुपये का खर्च बैठ सकता है। वहीं वंदेभारत एक्सप्रेस की एग्जीक्यूटिव क्लास के यात्री 2900 रुपये तक खर्च करते हैं। दरअसल सरकार ने 808 किलोमीटर लंबे दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल (HSR) कॉरिडोर प्रॉजेक्ट तय किया है। इसके साथ ही सरकार को उम्मीद है किसुविधा और समय की बचत को देखते हुए पैसेंजर प्रस्तावित किराया देने में कोई समस्या नहीं आएगा।