Roadside orange seller Harekala Hajabba gets Padma Shri for contribution to rural education

    नई दिल्ली : भारत को साधू और संतों का देश माना जाता है। वहीं मैंगलोर शहर (Mangalore City) से करीब 25 किलोमीटर दूर हरेकला के धूल भरे गांव न्यू पापडू में हरेकाला हजब्बा (Harekala Hajabba) रहते हैं। जिन्होंने संतरे बेचकर अपने गांव में गरीब बच्चों के लिए स्कूल बनवाया है। जिसके चलते समाज ने उन्हें ‘अक्षर संत’ की उपाधि दी है। वहीं भारत सरकार (Government of India) ने हरेकाला हजब्बा को देश के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान (Civilian Award) पद्मश्री (Padma Shri Award) से सम्मानित किया है। 

    अपने गांव में शिक्षा में क्रांति लाने की इच्छा उनके मन में 1978 में तब आई जब एक दिन, कुछ विदेशी पर्यटकों ने उनके संतरे की कीमत अंग्रेजी में पूछी, तो उन्हें एक शब्द भी समझ में नहीं आया। दोनों चले गए, और हजब्बा को अपमानित सा लगा। किसी और को उसी तरह की शर्मिंदगी से गुजरना नहीं पड़े, जिसके लिए हजब्बा ने एक स्कूल स्थापित करने की दिशा में काम किया ताकि उनके गांव के गरीब बच्चों की शिक्षा मिल सके। उन्होंने 1999 में एक मदरसे से जुड़े एक स्कूल में केवल 28 छात्रों के साथ शुरुआत की और एक स्कूल के निर्माण के लिए कमाए गए एक-एक रुपये को बचाया। आज उनका सपना सच हो गया है। गांव में 1.5 एकड़ जमीन पर एक स्कूल है जिसमें सभी धार्मिक और जातिगत पृष्ठभूमि के निम्न आय वाले परिवारों के 150 से अधिक छात्र हैं।

    मेरा लक्ष्य अपने गांव में और स्कूल और कॉलेज बनाना है

    अब,  हजब्बा अपने गांव में और अधिक स्कूलों के निर्माण में कई वर्षों में विभिन्न पुरस्कार जीतने के बाद प्राप्त पुरस्कार राशि का निवेश करना चाहते हैं। उनसे जब पुछा गया कि उनका अगला लक्ष्य क्या है, 66 वर्षीय व्यक्ति ने कहा, “मेरा लक्ष्य अपने गांव में और स्कूल और कॉलेज बनाना है। कई लोगों ने पैसे दान किए हैं और मैंने स्कूल और कॉलेज निर्माण के लिए जमीन खरीदने के लिए भी पुरस्कार राशि जमा की है। “मैंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से अपने गांव में एक प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज (कक्षा 11 और 12 के छात्रों के लिए) का निर्माण करने का अनुरोध किया है। उन्होंने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, सांसद नलिन कुमार कतील, जिला प्रभारी मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी और विधायक यूटी खादर को उनके परोपकारी कार्यों को मान्यता देने के लिए धन्यवाद दिया है।