north-east-express

Loading

पटना: नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस (North East Express) के बेपटरी होने के बाद सीवान जिले (Siwan District) के रघुनाथपुर स्टेशन (Raghunathpur station) पर 48 घंटे में दूसरा रेल हादसा हुआ। अबकी बार यहां ट्रेन का इंजन पटरी से उतर गया। यह इंजन स्पेशल लाइन पर चल रहा था। हादसा उस वक्त हुआ जब यह इंजन नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस की बोगियों को लूप लाइन में ले जा रहा था। 

हादसे के पीछे का बाहरी कारण 

इस हादसे के बारे में बताया जा रहा है कि बोगियों के डिरेल होने से पहले एक जोरदार आवाज सुनाई दी थी। लोकोपायलट और गेटमेन ने तेज आवाज आने की पुष्टि की है। इसके बाद अब कयास लगाए जा रहे हैं कि हादसे के पीछे कोई बाहरी कारण हो सकता है।

21 बोगियां पटरी से उतर गईं थी

बता दें कि दिल्‍ली के आनंद विहार टर्मिनल से चलकर उत्‍तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल होते हुए कामाख्‍या यानी कि असम की ओर जाने वाली नॉर्थ ईस्‍ट सुपरफास्‍ट ट्रेन 11 अक्टूबर की रात रघुनाथपुर स्टेशन पर हादसे का शिकार हो गई थी। ट्रेन की 21 बोगियां पटरी से उतर गईं थी। इस हादसे में 4 यात्रियों की मौत हो गई थी। करीब 80 लोग घायल बताए जा रहे थे। इनमें से कई की हालत अभी भी गंभीर है। 

हादसे की जांच में ये में आई ये जानकारी

इस बीच रेलवे बोर्ड ने दुर्घटना के कारणों को जानने के लिए जांच के आदेश दिए हैं। अधिकारियों की टीम जांच में जुट गई है। अब तक के जांच में बताया जा रहा है कि रेलवे पटरियां कई जगहों पर टूटी हुई मिली बताई जा रही हैं। ऐसे में पटरियों से छेड़छाड़ की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। हालांकि, रेलवे अधिकारी इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।