pankaja-munde
File

    औरंगाबाद:  महाराष्ट्र की पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे (Pankaja Munde) को राज्य के आगामी विधान परिषद चुनाव में उम्मीदवार नहीं बनाए जाने के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन (Protest) करने के लिये बीजेपी कार्यालय जा रहे उनके तीन समर्थकों को हिरासत में ले लिया गया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने औरंगाबाद के उस्मानपुरा इलाके में स्थित भारतीय जनता पार्टी (BJP) कार्यालय की ओर जाते हुए मुंडे के समर्थन में नारेबाजी की। उस्मानपुरा थाने के एक अधिकारी ने मिडिया को बताया, ‘जब वे नहीं रुके तो हमने उन्हें हिरासत में ले लिया और वेदांत नगर पुलिस को सौंप दिया।’

    उन्होंने कहा कि जांच में पता चलेगा कि उनका पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ करने का तो कोई इरादा नहीं था। पुलिस हिरासत में लिये जाने के समय मुंडे के एक समर्थक ने दावा किया कि पूर्व मंत्री के साथ ‘अन्याय’ किया जा रहा है और ‘ओबीसी’ समुदाय इसको लेकर भाजपा को जवाब देगा। भारतीय जनता पार्टी ने बुधवार को महाराष्ट्र विधान परिषद की 10 सीटों पर होने वाले चुनावों के लिए पांच उम्मीदवारों की घोषणा की, लेकिन भाजपा के दिग्गज नेता रहे दिवंगत गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे का नाम सूची में नहीं है।

    इससे पहले, ऐसी अटकलें थीं कि पार्टी पंकजा मुंडे को उम्मीदवार बना सकती है, जो 2019 के राज्य विधानसभा चुनावों में अपने चचेरे भाई राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के उम्मीदवार धनंजय मुंडे से हार गई थीं। महाराष्ट्र भाजपा प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने बुधवार को कहा था कि उन्होंने और पार्टी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने पंकजा मुंडे की उम्मीदवारी के लिए प्रयास किया, लेकिन ‘ऐसा लगता है कि केंद्रीय नेतृत्व के पास उनके लिए कुछ और योजनाएं हैं। (एजेंसी)