1993 में 5 शहरों में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में आरोपी अब्दुल करीम टुंडा को टाडा (हरे कपड़े में)
1993 में 5 शहरों में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में आरोपी अब्दुल करीम टुंडा को टाडा (हरे कपड़े में)

Loading

अजमेर/जयपुर: बहुचर्चित शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन सीरियल बम ब्लास्ट का मामले में गुरुवार को बड़ा फैसला आया है। 1993 में 5 शहरों में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में आरोपी अब्दुल करीम टुंडा को टाडा कोर्ट ने बरी कर दिया है, जबकि दो आतंकवादियों इरफान और हमीदुद्दीन को दोषी करार दिया गया है।

 2014 से विचाराधीन था केस

यह मामला साल 2014 से विचाराधीन था। इस मामले में टुंडा सहित करीब 17 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। अजमेर की टाडा कोर्ट ने गुरुवार 29 फरवरी 2024 को कुख्यात आरोपी सैयद अब्दुल करीम टुंडा को 1993 के सीरियल बम ब्लास्ट मामले में बरी कर दिया। टुंडा के खिलाफ शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में हुए बम धमाके का केस 2014 से विचाराधीन था।

कब हुआ था घटना

यह घटना 6 दिसंबर 1993 को राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन में हुई थी। आतंकियों ने ट्रेन में सीरियल बम ब्लास्ट किया था। इस घटना को बाबरी मस्जिद विध्वंस की पहली बरसी का बदला करार दिया गया था। मामले में 17 आरोपी पकड़े गए थे। इनमें से 3 टुंडा, हमीदुद्दीन और इरफान अहमद  पर कोर्ट ने आज फैसला सुनाया । बता दें कि हमीदुद्दीन को 10 जनवरी 2010, इरफान अहमद को 2010 के बाद और टुंडा को 10 जनवरी 2014 नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया था।