mamta banerjee
File Pic

    पणजी. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की गोवा (Goa Congress)) इकाई के प्रभारी दिनेश गुंडू राव ने बुधवार को दावा कि ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) नीत तृणमूल कांग्रेस (TMC) गोवा में वही चीज कर रही है, जो भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पश्चिम बंगाल में किया था। गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुईजिन्हो फालेयरो के कांग्रेस के विधायक के तौर पर इस्तीफा देने के कुछ दिनों बाद राव का यह बयान आया है। राज्य में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं।

    फालेयरो पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मौजूदगी में बुधवार को कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं। राव ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि तृणमूल कांग्रेस ‘‘बिल्कुल वही चीज कर रही है, जो भाजपा ने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के साथ किया था”। उल्लेखनीय है कि टीएमसी नेता डेरेक ओब्रायन ने हाल में कहा था कि उनकी पार्टी अगले साल फरवरी में होने वाला गोवा विधानसभा चुनाव लड़ेगी। राव ने कहा, ‘‘तृणमूल का अर्थ है-जमीनी स्तर। ममता ने जमीनी स्तर पर काम किया है, लेकिन यहां (गोवा में) जमीनी स्तर पर काम कहां है? चार्टर्ड विमान में गोवा आना, लोगों से कहना कि यदि आप हमारी पार्टी में शामिल होंगे, तो हम आपके चुनाव के लिए धन मुहैया कराएंगे… यह भाजपा की रणनीति लगती है।”

    उन्होंने कहा, ‘‘यह वही चीज करने की कोशिश लगती है, जिस बारे में ममता दीदी ने पश्चिम बंगाल में भाजपा पर आरोप लगाए थे, जो चीज भाजपा (इस साल की शुरुआत में पश्चिम बंगाल चुनाव से पहले सरकार बनाने के लिए) कर रही थी। उन्होंने कहा कि भाजपा दूसरे दलों के मंत्रियों और विधायकों को भगवा पार्टी में शामिल कर रही थी और ममता भी ऐसा ही यहां कर रही हैं।” उल्लेखनीय है कि 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों की संख्या घट कर केवल चार रह गई है।

    हालांकि, राव ने इस बात से इनकार किया है कि पार्टी ने तटीय राज्य में अन्य दलों के प्रवेश के लिए गुंजाइश बनाई। राव ने कहा, ‘‘2017 के चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) गोवा आई थी। ममता इस समय जिस कदर सुर्खियों में हैं, ‘आप’ उस समय उनसे कहीं अधिक चर्चा में रही थी, लेकिन यह इतना आसान नहीं है। कांग्रेस ने (2017 के गोवा चुनावों में) 17 सीट जीती थीं।” राव ने फालेयरो के पार्टी से जाने को ‘‘छुटकारा मिलना” करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘बहुत अधिक लोग उनके साथ नहीं गए हैं। यदि आप सोशल मीडिया पर लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं की प्रतिक्रिया देखें, तो हर कोई कह रहा है कि अच्छा हुआ कि उनसे छुटकारा मिल गया। यह पार्टी के लिए अच्छा ही है। हमें यही प्रतिक्रिया मिल रही है।”