यूपी चुनावों के पहले तृणमूल कांग्रेस की डिजिटल तैयारी शुरू, स्वदेशी ऐप Koo पर बढ़ रहा TMC का कुनबा

    • अभिषेक बनर्जी के Koo App ज्वाइन करने के बाद TMC के 31 दिग्गज नेताओं ने भी ज्वाइन किया Koo App

    नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले देसी माइक्रोब्लॉगिंग Koo App पर जबरदस्त चुनावी सरगर्मी देखने को मिल रही है. हाल ही में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की पार्टी के 31 बड़े नेताओं ने Koo App ज्वाइन किया है जो ये साफ इशारा करता है कि तृणमूल कांग्रेस ने मजबूत विपक्ष बनने और सोशल मीडिया में BJP से लोहा लेने के लिए इस स्वदेशी माइक्रोब्लॉगिंग ऐप पर अपना नया ठिकाना बनाया है.

    उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनावों के पहले पार्टी के इतने सारे नेताओं और कार्यकर्ताओं का Koo App ज्वाइन करना ये संकेत देता है कि पार्टी की नजर इस क्षेत्रीय भाषा वाले प्लेटफॉर्म के जरिए वोटर्स के बीच अपनी पैठ बनाने पर है. आपको बता दें कि इस महीने की शुरुआत में ही तृणमूल कांग्रेस और TMC के कद्दावर नेता अभिषेक बनर्जी ने Koo App ज्वाइन किया है जिसके बाद से ही TMC के नेताओं और समर्थकों का Koo App पर आने का सिलसिला चल रहा है.

    क्यों Koo पर TMC बढ़ा रही है कुनबा?

    TMC की नजर पश्चिम बंगाल में होने वाले उपचुनावों के बाद उत्तर प्रदेश और त्रिपुरा में होने वाले चुनावों पर है. माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश चुनावों में TMC भी अपनी किस्मत आजमा सकती है. हिंदी भाषी इस प्रदेश में लोगों से जुड़ने का सबसे अच्छा तरीका ये ही हो सकता है कि क्षेत्रीय भाषा के जरिए लोगों के बीच अपनी पैठ बनाई जाए. TMC ने इस फॉर्मूले को सही तरीके से अप्लाई करना शुरू कर दिया है, पार्टी ने डिजिटल दुनिया के जरिए लोगों से जुड़ने के लिए स्वदेशी ऐप Koo पर अपना विस्तार करना शुरू कर दिया है.

    तृणमूल कांग्रेस के दिग्गज अब Koo पर

    तृणमूल कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने यूपी चुनावों के पहले इस स्वदेशी ऐप पर अपनी मौजूदगी दर्ज करा दी है. अभिषेक बनर्जी के Koo पर आने के बाद जिन 31 बड़े नेताओं ने Koo पर अपना आधिकारिक अकाउंट बनाया है उनमें मलय घटक, शोभनदेव चट्टोपाध्याय (@Aitcsobhandeb), चंद्रिमा भट्टाचार्य (@chandrimaaitc), इंद्रनील सेन (@indranilSentmc) , रथिम घोष(@rathinghoshtmc)और मनोज तिवारी (@manojtiwaryofficial) शामिल हैं. इन सब के अलावा भारी संख्या में TMC के समर्थक भी Koo पर जुड़ कर अपने नेताओं को फॉलो कर रहे हैं और बातचीत कर रहे हैं.

    हिंदी सोशल मीडिया यूजर्स पर है सबकी नजर

    तेजी से लोकप्रिय हो रहे स्वदेशी माइक्रोब्लॉगिंग साइट Koo ने हाल ही में ये ऐलान किया था कि उसके 1 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हो गए हैं जिनमें से करीब आधे यूजर्स हिंदी के हैं. ऐसे में ये साफ है कि बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश के लोग Koo पर हैं और हिंदी में अपनी बात रख रहे हैं. बीजेपी ने इस बात को पहले ही भांप लिया था और इस प्लेटफॉर्म से जुड़ गए थे.

    चुनाव को नजदीक आता देख विपक्ष भी इस बात को समझ गया है कि उत्तर प्रदेश के सत्ता का रास्ता हिंदी के साथ चल कर ही तय किया जा सकता है और यही वजह है कि अब सभी विपक्षी पार्टियों ने Koo का रुख कर लिया है. जानकारों की मानें तो इस स्वदेशी सोशल मीडिया ऐप पर यूपी चुनाव का घमासान देखने को मिलेगा.

    Koo App पर विपक्ष की घेराबंदी

    पिछले कुछ हफ्ते से Koo App पर विपक्षी पार्टियों के बड़े नेताओं के आने का सिलसिला जारी है. हाल ही में बहुजन समाज पार्टी के दिग्गज नेता व पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने भी Koo App पर अपना अकाउंट बनाया है. इसके अलावा राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेज प्रताप यादव ने भी Koo App ज्वाइन कर लिया है.

    इस स्वदेशी माइक्रोब्लॉगिग साइट पर पहले से ही आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह, आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओमप्रकाश राजभर, अरविंद राजभर और अरुण राजभर मौजूद हैं और हिंदी भाषी प्रदेश के लोगों से उनकी ही भाषा में संवाद कर रहे हैं.