VANDE-BHARAT

Loading

नई दिल्ली. केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnav) ने भारतीय रेलवे (Indian Railway) के लिए रविवार को एक नई पहल शुरू की है। इसके तहत देश भर में वंदे भारत ट्रेनों की महज 14 मिनट में सफाई की जाएगी। इस प्रक्रिया को पहले 3-4 घंटे लगते थे। मंत्री ने जापान की बुलेट ट्रेन से प्रेरित होकर यह फैसला लिया है। इसकी शुरुआत दिल्ली के कैंट रेलवे स्टेशन से होगी।

जापान के 7 मिनट के चमत्कार पर आधारित है कॉन्सेप्ट

अश्विनी वैष्णव ने कहा कि यह एक अनोखा कॉन्सेप्ट है और भारतीय रेलवे में पहली बार ऐसा होने जा रहा है। यह पहल जापान के ओसाका, टोक्यो आदि जैसे विभिन्न स्टेशनों पर ‘7 मिनट के चमत्कार’ की अवधारणा पर आधारित है, जहां बुलेट ट्रेनों को सात मिनट के भीतर साफ किया जाता है और दूसरी यात्रा के लिए तैयार किया जाता है। उन्होंने कहा कि समय की पाबंदी और टर्नअराउंड समय में सुधार के लिए यह पहल की जा रही है।

इन स्टेशनों पर शुरू होगी सेवा

मंत्री ने कहा कि इस गतिविधि में पहले से लगे फ्रंट-लाइन कार्यबल की संख्या में वृद्धि किए बिना सफाई कर्मियों की दक्षता, कौशल और कामकाजी रवैये को बढ़ाकर यह सेवा संभव हो गई है। दिल्ली कैंट के अलावा, कुछ अन्य रेलवे स्टेशनों- वाराणसी, गांधीनगर, मैसूर और नागपुर से शुरू किया जाएगा, जो वंदे भारत ट्रेनों के संबंधित आगमन समय पर निर्भर करता है।

वंदे भारत के अलावा अन्य ट्रेनों में भी यही कॉन्सेप्ट होगा लागू

इस अवधारणा को लॉन्च करने से पहले, रेलवे ने कुछ ड्राई-रन किए, जहां परिचारकों ने पहले ट्रेन को लगभग 28 मिनट में साफ किया और फिर इसे 18 मिनट तक सुधार दिया। मंत्री ने कहा, ”अब बिना किसी नई तकनीक को शामिल किए इसमें केवल 14 मिनट लगेंगे।” मंत्री ने कहा, “वंदे भारत से शुरू करके, हम धीरे-धीरे अन्य ट्रेनों में भी यही अवधारणा लागू करेंगे, जिसका उनकी समयपालनता में सुधार पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।”