Violence during Bihar Bandh
PTI Photo

    पटना/नई दिल्ली. केंद्र सरकार की सेना में भर्ती की नई स्कीम ‘अग्निपथ योजना’ (Agnipath Scheme) को लेकर लगातार चौथे दिन विरोध प्रदर्शन (Protest) जारी रहा। इस योजना को लेकर बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और तेलंगाना समेत कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन हो रहा है। इस बीच शनिवार को पूर्व मध्य रेलवे ने बिहार में मौजूदा कानून-व्यवस्था की समस्या को देखते हुए 60 से अधिक ट्रेनों को रद्द दिया है।

    उल्लेखनीय है कि, देश भर में अग्निपथ योजना के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए शनिवार को 369 ट्रेन रद्द कर दीं। अधिकारियों ने बताया कि जिन ट्रेनों को रद्द किया गया है उनमें 210 मेल एक्सप्रेस तथा 159 पैसेंजर ट्रेन शामिल हैं। उन्होंने बताया कि रेलवे ने दो मेल एक्सप्रेस को आंशिक रूप से रद्द किया है इसलिये रद्द होने वाली ट्रेनों की कुल संख्या 371 है।

    बिहार में योजना के विरोध में बंद का आह्वान किया गया था। नई सैन्य भर्ती योजना के विरोध के चौथे दिन बिहार की राजधानी पटना में पुलिस ने बंद समर्थकों को जबरन दुकानें बंद करने से रोका, लेकिन उन्होंने व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर पथराव किया तथा सड़कों पर पुश-अप (सपाट मारना) करके अपना विरोध दर्ज कराया।

    वहीं, पटना जिले के मसौढी अनुमंडल के तारेगाना रेलवे स्टेशन को बंद समर्थकों ने आग के हवाले कर दिया और राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) की एक जीप में आग लगा दी। इस दौरान पथराव के साथ गोलीबारी की भी खबर है और उपद्रव को कवर करने वाले पत्रकारों की पिटाई किए जाने का भी मामला सामने आया है।

    उधर, दानापुर अनुमंडल में बंद समर्थकों ने एक एंबुलेंस में तोड़फोड़ की और एक चालक ने आरोप लगाया कि भीड़ ने वाहन के भीतर मौजूद एक मरीज और परिचारकों को भी पीटा। पिछले तीन दिनों में विरोध प्रदर्शन के दौरान राज्य में रेलवे को भारी नुकसान हुआ है। भीड़ द्वारा 60 से अधिक ट्रेन के डिब्बों, 10 इंजनों और कुछ स्टेशनों पर आगजनी की गई।

    इससे पहले बंद समर्थकों ने जहानाबाद जिले में एक पुलिस चौकी पर हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। बिहार सरकार ने शुक्रवार को अग्निपथ योजना के मुद्दे पर राज्य भर में हुई व्यापक स्तर पर हिंसा की पृष्ठभूमि में 12 जिलों में 19 जून तक इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया है। गृह विभाग की ओर से जारी आदेश के मुताबिक कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिमी चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली और सारण जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। अधिकारियों ने राज्य के कई जिलों में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए चार या अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है।