प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    आज की तारीख में स्मार्टफोन (Smartphone) हमारी ज़रूरत के साथ साथ हमारी लाइफ का एक हिस्सा भी बन गया है। इसके बिना मानों अब कोई काम भी नहीं होता। यह लोगों की अब ज़रूरत (Smartphone Need) से बढ़ कर है। वहीं जब इसकी चार्जिंग (Charging) कम होने लगती है तो लोगो जल्द से जल्द चार्जिंग पॉइंट (Charging Points) ढूंढने लगते हैं। ऐसे में वे पब्लिक प्लेस की चार्जिंग भी यूज़ (Public Charging Point) करने से नहीं कतराते, लेकिन क्या आप जानते हैं पब्लिक प्लेस पर मोबाइल चार्ज (Mobile Charge) करने से आपके डाटा भी लीक (Data Leak)  हो सकते हैं। 

    जी हाँ, पब्लिक प्लेस का चार्जिंग प्वाइंट्स पर हैकर्स (Hackers) अपनी नज़रें गढ़ाए बैठे रहते हैं। वह आपके महत्वपूर्ण जानकारियां और डाटा को चोरी कर लेते हैं और उन्हें लीक कर देते हैं। इसलिए इससे बचना बेहद ज़रूरी होता है। तो चलिए जानते इस स्कैम से कैसे बचा जा सकता है…

    हैकर्स का शिकार-
    पब्लिक प्लेस का चार्जिंग पॉइंट बेहद ही खतरनाक साबित हो सकता है। यह पॉइंट्स ज़्यादातर रेलवे स्टेशन, बस स्टॉप, मॉल आदि जगाहों पर आपको मिल जाएंगे। इन पॉइंट्स पर हैकर्स टिकी होती है। इन चार्जिंग प्वाइंट्स पर लगी यूएसबी से अगर आप अपना फोन चार्ज करते हैं तो उसमें मौजदू बैंक एप्स का लॉग इन, फेसबुक, व्हाट्सऐप, ट्विटर, जीमेल समेत यूपीआई एप का पासवर्ड और डाटा हैकर्स चोरी कर लेते हैं।  

    जिससे वह आपके महत्वपूर्ण चीज़ों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। सतह ही आपका बैंक अकाउंट भी डिलीट कर सकते हैं। इतना ही नहीं हैकर्स इन यूएसबी केबल के ज़रिए आपके फोन में वायरस भी इंस्टॉल कर देते हैं। वहीं हैकर्स कुकीज के जरिए डाटा कॉपी किया जाता है।

    कैसे बचें-
    हैकर्स से बचने के लिए और अपने डाटा को बचाने के लिए आप हमेशा अपने पास पावर बैंक ज़रूर रखें। अगर आपके पास यह नहीं है और आपको पब्लिक चार्जिंग पॉइंट का इस्तेमाल करना ही पड़ेगा तो ध्यान रखें आप अपना फोन बंद करके चार्ज करें। फोन को बंद करके चार्ज करने से डेटा ट्रांसफर नहीं हो पता है।