प्रशासन करेगा संदिग्ध मरीजों की खोज

कोरोना संक्रमण को रोकने खोज पखवाड़ा का आयोजन

मरीजों का होगा तत्काल उपचार

लोगों से जांच कराने की DM की सलाह

जलगांव. जलगांव जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन ने कमर कस ली है. जिलाधिकारी ने जिले में 24 जून से 8 जुलाई तक कोरोना के संदिग्ध रोगियों की खोज शुरू करने के लिए एक पखवाड़ा का आयोजन किया है. इस दौरान संदिग्ध लोगों को शीघ्र निदान और तत्काल उपचार मुहैया कराया जाएगा. ताकि जिले में मृत्यु दर को कम करने में मदद मिल सके.इस प्रकार की जानकारी जिला कलेक्टर अभिजीत राऊत ने दी.

अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने  किए गए निवारक उपायों की समीक्षा बैठक कलेक्टर राउत की अध्यक्षता में आयोजित की गई थी. जिसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी उप-विभागीय अधिकारी  तहसीलदार,  पुलिस निरीक्षक,  समूह विकास अधिकारी,  मुख्य अधिकारी नपा / नपा,  तालुका स्वास्थ्य अधिकारी,  चिकित्सा अधीक्षकों की समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए डीएम ने कहा कि कोरोना जिले से मुक्त कराना है.इसके लिए केंद्रीय समिति द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार,  प्रभावित रोगियों का तुरंत निदान करना आवश्यक है.

कोरोना जांच का दायरा होगा बढ़ाना

कोरोना परीक्षण टेस्टिंग बढ़ाना होगा.संक्रमित रोगियों के संपर्क में आए व्यक्तियों का शीघ्र पता लगा कर यदि रोगी का शीघ्र निदान किया जाता है,  तो उसका शीघ्र उपचार किया जा जाए,  इससे रोगी को तेजी से ठीक होने और मृत्यु दर को कम करने में मदद मिलेगी. जिलाधिकारी राउत ने सभी तहसील के स्वास्थ्य अधिकारियों को अवधि के दौरान प्रभावित रोगी के संपर्क के साथ 50 वर्ष से अधिक आयु के रोगियों की जांच और स्क्रीनिंग करने के निर्देश दिए हैं.

कोरोना लक्षण के मरीजों का रखें रिकार्ड

उन्होंने सुझाव दिया कि जिन व्यक्तियों को कोविड के लक्षण हैं,  ऐसे व्यक्तियों का एक अलग रिकॉर्ड रखें ताकि संदिग्ध मरीजों के स्वैब की जांच के लिए भेजा जा सके.इस का अभिलेख रखने के निर्देश भी दिए हैं. 

हजार स्वैब की होगी जांच सुविधा 

जिलाधिकारी अभिजीत राउत ने राहत भरी घोषणा की कि अगले सप्ताह से जलगांव ज़िले में प्रतिदिन एक हजार कोरोना के परीक्षण करने की व्यवस्था शुरू होने जा रही हैं.कोरोना संक्रमण को रोकने संदिग्ध रोगियों की स्वैब जांच अविलंब किए जाने के निर्देश भी डीएम ने दिए हैं. जिले से कोरोना संक्रमण को समाप्त करने  कोरोना परीक्षण की क्षमता में इजाफा किया जा रहा है. जिसके कारण जिले में मरीजों की संख्या बढ़ने की आशंका है. ज़िला प्रशासन और स्वास्थ्य प्रणाली प्रभावित रोगियों को आवश्यक उपचार प्रदान करने के लिेए तैयार है.

मृत्यु दर कम करने का प्रयास

जिले में पिछले कुछ दिनों में मरीजों की रिकवरी दर बढ़ी है. मृत्यु दर को कम करने प्रशासन आवश्यक उपाय भी कर रहा है.नागरिकों को घबराने की आवश्यकता नहीं है. जिन्हें सर्दी-जुकाम सांस लेने में तकलीफ हो,  ऐसे मरीज तुरंत अस्पताल जाएं और जांच कराएं कि किसी को कोरोना जैसे लक्षण तो नहीं है.

 -जिला कलेक्टर राऊत