Order: Prohibition on Marriages

पुलिस ने प्रेमी को किया गिरफ्तार

लड़की के पिता ने बताया नाबालिग

जलगांव. धरणगांव तहसील में स्थित पिंप्री खुर्द गांव में अजीबोगरीब मामला सामने आया है. प्रेम विवाह बालिग-नाबालिग में उलझ गया है. लड़की के पिता ने उसे नाबालिग बताया है. वहीं लड़के के पिता ने लड़की को बालिग बता कर उसका आधार कार्ड स्कूल प्रमाण पत्र बतौर सबूत के रूप में पेश किया है. पुलिस ने युवक को पास्को कानून के तहत मुजरिम बना कर सलाखों के पीछे धकेल दिया है.

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार धरणगांव के 24 वर्षीय युवक ने अपनी प्रेमिका के संग उस समय शादी कर ली,  जब प्रेमिका की आयु आधार कार्ड और स्कूल एलसी के आधार पर 18 साल के ऊपर प्रदर्शित हुई थी. प्रेमी युगल जब शादी कर लौटे तो बेटी के पिता ने धरणगांव पुलिस थाने में यह कहकर शिकायत दर्ज कराई है कि उनकी बेटी अभी भी 17 साल की नाबालिग है.सबूत के रूप में बेटी के पिता ने जलगांव मनपा का जन्मप्रमाण  पुलिस को साैंपा है जिसके आधार पर बेटी नाबालिग स्पष्ट होती है. फिलहाल धरणगांव पुलिस ने बेटी के पिता की शिकायत के आधार पर प्रेमी सहित कुल 8 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. पुलिस ने इस मामले में प्रेमी को गिरफ्तार कर रिमांड पर रखा है और आगे की कार्रवाई शुरू है.

पुलिस की कार्यशैली पर गंभीर आरोप

दूसरी ओर बेटे के पिता ने पुलिस की कार्यशैली पर गंभीर आरोप लगाते हुए अपने बेटे को निर्दोष बताकर इस मामले की उच्च स्तरीय जांच एवं कार्रवाई की मांग की है. बेटे के पिता का आरोप है कि उनके बेटे को इस मामले में जबरदस्ती से फंसाया जा रहा है. बेटे के पिता ने मीडिया हाउस में रिकॉर्ड कर एक वीडियो जारी करते हुए कहा है कि उनके बेटे ने जिस लड़की से शादी की है उसकी उम्र 18 साल पूरी हो चुकी है.

कागजातों के अंतर से उलझा मामला

न्होंने यह भी कहा है कि बेटी के उम्र के सारे प्रमाण जैसे कि आधार कार्ड और स्कूल लिविंग प्रमाणपत्र की कॉपी उनके पास मौजूद है .जिसकी जांच अगर करवाई जाती है तो सच सामने आ सकता है. सवाल यह उठ रहा है कि एक ही लड़की का दो स्थानों के प्रमाण पत्रों  पर अलग-अलग जन्म तारीख कैसे अंकित है. पुलिस के सामने दोनों प्रमाण पत्र जांचने की चुनौती संदिग्ध आरोपी के पिता ने खड़ी की है.जब तक पुलिस आधार कार्ड और मनपा जन्म प्रमाणपत्र और स्कूल लिविंग की बारीकी से जांच नहीं करती तब तक सच्चाई सामने नहीं आ सकती. बेटे के पिता ने जिला प्रशासन से इस पूरे मामले की जांच कराने तथा दोषियों पर कानूनी कार्रवाई की मांग की है.