पडलकर की टिप्पणी पर बिफ़री राकां

 सस्ती लोकप्रियता पाने में जुटी भाजपा

जलगांव. भाजपा विधायक गोपीचंद पडलकर ने राकां अध्यक्ष शरद पवार पर विवादित टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि शरद पवार कोरोना हैं. जिन्होंने महाराष्ट्र को संक्रमित कर दिया है. पडलकर के इस बयान पर राकां ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने भाजपा विधायक के बिगड़े बोल की निंदा की है. जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर एनसीपी कार्यकर्ताओं ने भाजपा विधायक के इस बयान को पब्लिसिटी स्टंट बताया है. 

मानसिक स्वास्थ्य की करें जांच

एनसीपी ने भाजपा विधायक गोपीचंद पडलकर  की मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराने की मांग की है. भाजपा विधायक के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई की मांग एनसीपी पदाधिकारी कार्यकर्ताओं ने की है.

महाजन पर बोला हमला

जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन में एनसीपी जिला अध्यक्ष अधिवक्ता रविंद्र पाटिल ने भाजपा के संकटमोचक विधायक गिरीश महाजन पर जमकर हमला बोला है. महाजन पर निशाना साधते हुए पाटिल ने आरोप लगाया है कि जब सूबे में भाजपा की सरकार थी, उस समय गिरीश महाजन ने कपास को 700 रुपये  समर्थन मूल्य देने के वादे से मुकर गए थे. भारतीय जनता पार्टी के नेता इस वैश्विक महामारी के कठिन समय में सस्ती  लोकप्रियता हासिल करने के लिए राजनीतिक स्टंट कर रहे हैं. रवींद्र पाटिल ने महाजन पर पलटवार करते हुए कहा कि महाजन जब सत्ता में थे, उस समय उन्हें किसानों के कपास के समर्थन मूल्य की याद नहीं आई. भारतीय जनता पार्टी के नेता केवल लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं.

बयान की कड़े शब्दों में निंदा

पडलकर के बयान को लेकर राकां नेता रविंद्र पाटिल ने कहा कि पडलकर की पवार पर बोलने की औकात नहीं है.पडलकर ने पवार के खिलाफ जिस भाषा का इस्तेमाल किया है, उसकी कड़े शब्दों में निंदा एनसीपी  करती है. पडलकर को इसके परिणाम भुगतने पड़ेंगे.राकां  ने कहा कि पडलकर को अपने बयान पर माफी मांगनी चाहिए. इस तरह की मांग का ज्ञापन ज़िला प्रशासन को एनसीपी नेता जिला अध्यक्ष रविंद्र पाटिल, महिला आघाडी जिलाध्यक्ष कल्पना पाटिल, सामाजिक न्याय विभाग जिलाधिकारी अरविंद मानकरी, लिगल सेल  जिलाध्यक्ष एड. ज्ञानेश्वर बोरसे, सलीम इनामदार, अन्वर खटिक आदि ने सौंपा है.