Mahavitaran gave 71 thousand connections in Vidarbha in lockdown

    जलगांव. महावितरण (Mahavitaran) ने मानसून (Monsoon) से पहले ही मेंटेनेंस (Maintenance) के सारे काम पूरे कर लिए हैं। ग्राहकों को बारिश (Rain) के मौसम में भी बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित होती रहे, इसके लिए महावितरण कर्मियों ने कमर कस ली है। बारिश में बिजली आपूर्ति सुनिश्चित रखने के निर्देश महावितरण के अध्यक्ष व व्यवस्थापकीय संचालक  विजय सिंघल ने क्षेत्रीय कार्यालय को दिए हैं।

     हालांकि कोरोना की दूसरी लहर थम रही है, लेकिन लॉकडाउन की पाबंदियां लागू हैं  इसलिए सभी नागरिक घर पर हैं। आवश्यक सेवा कर्मी ही सेवा में हैं। मानसून के दौरान विभिन्न कारणों से बिजली आपूर्ति बाधित होने की संभावना रहती है। इसलिए बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के लिए पिछले दो महीने से बिजली संयंत्र के रख-रखाव और मरम्मत कार्य में तेजी लाई गई है।

    क्षतिग्रस्त उपकरणों को बदला गया

    इनमें बिजली के उपकरणों के पास पेड़ की शाखाओं को काटना, टूटे हुए पिन और डिस्क इंसुलेटर को बदलना, निरीक्षण और मरम्मत करना, डीपियों के तेल स्तर की जांच करना, तेल रिसाव को रोकना, क्षतिग्रस्त लाइटनिंग अरेस्टर्स को बदलना, भूमिगत नाली के स्थायी जोड़ों को स्थायी बनाना, क्षतिग्रस्त कंडक्टरों को बदलना, जले और टूटे तारों को बदलना, सब-स्टेशन में सभी यांत्रिक घटकों और प्रणालियों का निरीक्षण और मरम्मत के साथ-साथ वास्तविक समय में पाई गई त्रुटियों को सुधार कर विद्युत प्रणाली की देखभाल की गई है।

    बिजली गुल होने पर वैकल्पिक व्यवस्था 

    बिजली गुल होने की स्थिति में सबसे पहले वैकल्पिक व्यवस्था से बिजली आपूर्ति शुरू करने को प्राथमिकता दी जाए और साथ ही मरम्मत का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाए। इस तरह के आदेश विजय सिंघल ने  कर्मियों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि बिजली गुल होने की स्थिति में संबंधित उपभोक्ताओं को सूचित भी करें। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी मरम्मत कर्मियों को विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा उपकरणों का उपयोग करना चाहिए और नागरिकों को भी विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए किए जाने वाले उपायों के बारे में बताया जाए।

    वर्तमान में कोरोना की आपात स्थिति के कारण बड़े एवं प्रतिष्ठित अस्पतालों, ऑक्सीजन उत्पादन परियोजनाओं एवं रिफिलिंग उद्योगों, आइसोलेशन रूम, टीकाकरण केन्द्रों, जलापूर्ति, मोबाइल टावर, रेलवे एवं आवश्यक सेवाओं सहित घरेलू ग्राहकों को बिजली आपूर्ति बहाल करने को प्राथमिकता दी जाएगी। MSEDCL का कॉल सेंटर शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए 24 घंटे उपलब्ध है। किसी भी शिकायत को दर्ज कराने के लिए टोल फ्री नंबर 18001023435, 18002333435 या 1912 पर कॉल किया जा सकता है।

    -विजय सिंघल, अध्यक्ष, महावितरण