अंडरग्राउंड गटर पाइप बिछाने में कोताही

  • अमलनेर में अंडरग्राउंड गटर, पंपिंग स्टेशन का काम शुरू
  • नागरिक लगा रहे हैं आरोप

अमलनेर. अमलनेर शहर में अंडरग्राउंड गटर बनाने का काम जीवन प्राधिकरण से कराया जा रहा है. काम घटिया स्तर का किये जाने का आरोप स्थानीय नागरिकों द्वारा लगाया जा रहा है. निर्धारित नियमों के अनुसार नालियों का निर्माण नहीं किया जा रहा है. इस प्रकार का आरोप लोगों ने लगाया है.

इस समय चल रहे गटर के काम में भ्रष्टाचार हो रहा है. आम तौर पर मुख्य गांव से गुजरने वाले इन भूमिगत गटरों में पाइपों का आकार भिन्न होता है. आमतौर पर आवश्यकता के अनुसार एक फुट से दो फुट तक पाइप बिछाने की आवश्यकता होती है.जलगांव में भूमिगत गटर परियोजना के काम में डेढ़ फीट पाइप का भी उपयोग किया गया है. अमलनेर में, सभी स्थानों पर आधा फुट पाइप बिछाए जा रहे हैं.

नियमों की उड़ाई जा रहीं धज्जियां

लोग इस बारे में भ्रमित हैं और नगर में चर्चा चल रही है कि काम करते समय नियमों  की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं. इन योजनाओं में पम्पिंग स्टेशन कहां स्थित होगा? यह स्पष्ट नहीं हो रहा है. इस बारे में कोई जानकारी भी उपलब्ध नहीं हो रही है. इसके अलावा,क्या इस योजना में कोई जल निकासी प्रणाली है? यदि बारिश के मौसम में बिजली  गुल होती है तो इस समय के लिए क्या व्यवस्था की जा रही है, यह भी स्पष्ट नहीं होने से लोगों द्वारा कई सवाल उठाये जा रहे हैं.

नपा प्रशासन मौन

अंडरग्राउंड गटर से सिर्फ गटरों का पानी बहेगा या बारिश का पानी भी इसी गटर से बहेगा, इसके बारे में खुलासा करना आवश्यक होने के बावजूद नपा प्रशासन ने मौन धारण कर रखा है. अमलनेर नगरपालिका की भ्रष्ट कार्यप्रणाली को देखते हुए गटर निर्माण का काम जीवन प्राधिकरण को सौंपा गया है. नगर विकास विभाग की ओर इस काम के लिए 7 करोड़ रुपयों की मांग की गयी थी,विभाग ने अभी 2 करोड़ मंजूर कर लिए हैं. ऐसी जानकारी प्राधिकरण से मिल रही है.