कांग्रेस ने निकाली ट्रैक्टर रैली

  • किसान बिल का किया विरोध
  • किसानों से छीनी जा रही एमएसपी
  • 40 ट्रैक्टरों पर सवार होकर किसान रैली में हुए शामिल

जलगांव. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के किसान बिल के विरोध में प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन में शामिल होकर सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पैदल मार्च और ट्रैक्टर रैली निकाली. कांग्रेस ने इस बिल को एक अलोकतांत्रिक तरीके से पारित किया गया विधेयक बताया. रैली के बाद कांग्रेस नेताओं ने डीएम को ज्ञापन सौंपा. जिलाध्यक्ष अधिवक्ता संदीप पाटिल ने कहा कि भाजपा के सत्ता में आने के बाद सरकारी कर्मचारियों, युवाओं के बाद अब किसानों को टारगेट किया जा रहा है और उनके खिलाफ कठोर कानून पारित किए गए हैं. पाटिल ने कहा कि कांग्रेस ने पिछले हफ्ते से पूरे देश में किसानों के साथ एकजुटता के साथ इस बिल के खिलाफ मजबूत विरोध दर्ज कराया है, क्योंकि ये बिल बड़े कॉर्पोरेट्स के हित में हैं और बड़े और छोटे किसानों के हितों के खिलाफ हैं.

बड़े कार्पोरेट को फायदा पहुंचाने में जुटा केंद्र

कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष उल्लास पाटिल ने कहा कि मोदी सरकार बड़े कॉर्पोरेट्स को फायदा पहुंचाने के लिए एमएसपी और मंडी सिस्टम को समाप्त करने की कोशिश कर रही है जो कि इन सुरक्षा उपायों और न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी के अभाव में छोटे और मध्यम किसानों का शोषण होगा.

केंद्र सरकार की ओर से पारित किये गए कृषि कानून के खिलाफ सोमवार को जलगांव में जिला राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर से भव्य ट्रैक्टर रैली निकालकर विरोध जताया गया. रैली का नेतृत्व जिलाध्यक्ष संदीप पाटिल  ने किया. जलगांव शहर से भव्य ट्रैक्टर रैली की शुरुआत हुई. तकरीबन 40 ट्रैक्टर लेकर किसान इस रैली में शामिल हुए.

किसानों के हित में नहीं है बिल

इस दौरान जिलाध्यक्ष संदीप पाटिल ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों के हित के खिलाफ कृषि कानून पारित किये, जिससे देशभर में इस कानून के खिलाफ किसानों को सड़कों पर उतरना पड़ा. सोनिया गांधी, राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी भी केंद्र के इस काले कृषि कानून के खिलाफ जारी आंदोलन में शामिल हैं. इसीलिए जलगांव में हमने जिला कांग्रेस की ओर से केंद्र सरकार द्वारा पारित काले कृषि कानून का विरोध जताने एवं उसका निषेध जताने के लिए इस भव्य ट्रैक्टर रैली का आयोजन किया गया.

रैली में बड़ी संख्या में शामिल हुए किसान

रैली में भारी संख्या में किसानों के साथ महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी उपाध्यक्ष पूर्व सांसद डॉ. उल्हास पाटिल, जिला निरीक्षक प्रकाश मुगदिया, प्रदेश सचिव डी.जी. पाटिल, जिलाध्यक्ष संदीप पाटिल, एन एस यू आय ज़िला अध्यक्ष  देवेंद्र मराठे, उदय पाटिल, प्रदीप पवार,अशोक खलाने, ज्योत्स्ना विसपुते,सुलोचना वाघ, प्रभाकर आप्पा सोनवणे,अविनाश भालेराव, राजेश कोतवाल, श्याम तायडे,जाकीर बागवान, अमजद पठान दीपक सोनवणे मुजिब पटेल बाबा देशमुख आत्माराम जाधव जगदीश पाटिल आसिफ शेख ज्ञानेश्वर महाजन विवेक ठाकरे प्रतिभा मोरे चंद्रकला इंगले मनीषा पाचपांडे अजाबराव पाटिल सुरेश पाटिल के डी चौधरी मनोज सोनवणे ज्ञानेश्वर कोली जमीन शेख चंदन पाटिल गौरव सिंह चव्हाण कदीर खान जलील पटेल समेत पूर्व विधायक, पार्षद और  पदाधिकारी शामिल हुए थे.

केंद्र सरकार छोटे उद्योग-धंधों के साथ किसानों को आर्थिक रूप से कमजोर करने का षड्यंत्र रच रही है. केंद्र सरकार ने अभी तक जो भी कदम उठाए हैं, सभी जनता के अहित में हैं. कृषि संबंधी बिल से किसानों का शोषण होगा. इसलिए हम सड़क पर उतरे हैं.  

-संदीप पाटिल, जिलाध्यक्ष