corona

    जलगांव. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की दूसरी लहर (Second Wave) के प्रकोप से अनेक जिंदगियां बर्बाद हो गई हैं। किसी ने माता-पिता तो किसी ने पत्नी को खो दिया है। इस बीच जलगांव जिले (Jalgaon District) में 70 गांव और कस्बे ऐसे भी हैं, जहां कोरोना नहीं पहुंच पाया।

    इन 70 गांवों में से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) सोमवार, 7 जून को 4 गांवों के सरपंचों से बातचीत करेंगे। जिला परिषद ने कार्यक्रम की तैयारी कर ली है।

    जानेंगे संक्रमण से बचने क्या किया उपाय 

    ग्राम पंचायत के उप मुख्य कार्यपालन अधिकारी बालासाहेब बोटे एवं अन्य अधिकारियों द्वारा जिन गांवों में कोरोना संक्रमण नहीं हुआ, ऐसे गांवों के नाम जिला परिषद ने सरकार को दिया है। जिला परिषद प्रशासन ने 4 गांवों के सरपंचों का चयन कर उन्हें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बातचीत करने के लिए जलगांव बुलाया है। इन 4 गांवों के सरपंचों से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे यह जानने की कोशिश करेंगे कि उन्होंने संक्रमण रोकने के लिए क्या उपाय किए। इन गांवों ने वास्तव में क्या किया, किन अभियानों को सफलतापूर्वक अंजाम दिया?  इसमें कुछ मुद्दों पर चर्चा होगी, जैसे बाहरी लोगों पर नजर कैसे रखें।

    जिले के गांवों की स्थिति

    • कुल गांव   1,499
    • ग्राम पंचायत  1157
    • संक्रमित हुए गांव  1431
    • कोविड मरीज वाली ग्राम पंचायत  1094
    • मरीज नहीं मिलने वाले गांव  70 
    • कोविडमुक्त हुए गांव  1179

    यावल तहसील क्षेत्र कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने में कामयाब रहा है। तालुका के 26 गांवों में पहली और दूसरी लहर में कोई मरीज नहीं मिला। इसी के साथ पाचोरा 14, रावेर 12, अमलनेर, भडगांव के 4, चालीसगांव, एरंडोल में  3, जलगांव 2,  बोदवड़ व चोपड़ा तहसील में 1-1 ग्राम पंचायत कोरोना मुक्त पाई गई है।