जन सहयोग से ही कोरोना होगा नियंत्रित

  • पालधी से मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी अभियान का हुआ आगाज
  • पालकमंत्री पाटिल ने जनता से की मदद की अपील

जलगांव. ज़िले में कोरोना वायरस का कहर जारी है. इस बीच राज्य सरकार की ओर से शुरू ‘मेरा परिवार- मेरी जि़म्मेदारी’ अभियान का आज से धरण गांव तहसील के पालधी शहर से जल आपूर्ति तथा स्वच्छता मंत्री गुलाबराव पाटिल के हाथों किया गया. आज यानि मंगलवार से जलगांव ज़िले में 10 लाख से अधिक परिवारों की स्वास्थ्य स्थिति की जांच करने के लिए सरकार के राज्यव्यापी कार्यक्रम ‘माई फैमिली, माई रिस्पॉन्सिबिलिटी’ अभियान चलाया जाएगा, जिसमें कोरोना वायरस बीमारी के प्रसार को नियंत्रित करने पर जोर होगा. पालक मंत्री गुलाबराव पाटिल इस मौके पर संबोधित करते हुए कहा कि अभियान “मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी” जनप्रतिनिधियों, जिला प्रशासन, गैर सरकारी संगठनों आदि की सहभागिता से कार्यान्वित किया जा रहा है. कोरोना संक्रमण को दूर करने के लिए प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयासों में नागरिकों का समर्थन भी महत्वपूर्ण है.

नियमों का पालन करने से जंग जीतने में होगी आसानी

अगर नागरिक इस लड़ाई में प्रशासन द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हैं तो कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीत ली जाएगी .इसी बुनियाद पर हर किसी के लिए खुद की देखभाल करना और कोरोना संकट से बचने के लिए कोरोना से दूर रहना समय की जरूरत बन गई हैं. कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला परिषद अध्यक्ष रंजनताई पाटिल ने की. इस अवसर पर कलेक्टर अभिजीत पाटिल, जिला परिषद  मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. बी एन पाटिल, जिला सर्जन  एन  एस  चव्हाण, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिलीप पाटोड़े, एरंडोल प्रांत विनय गोसावी, जिला परिषद सदस्य प्रतापराव पाटिल, तहसीलदार नितिन कुमार देवरे, सरपंच अलकबाई प्रकाश पाटिल, आशाबाई पाटिल, ग्राम पंचायत सदस्य, राजस्व और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे.

सार्वजनिक जीवन को सामान्य बनाने पर जोर

पालक मंत्री गुलाबराव पाटिल ने  इस  मौके पर कहा कि  कोरोना महामारी को नियंत्रित करने और मृत्यु दर को कम करने के लिए उद्धव बालासाहेब ठाकरे द्वारा घोषित राज्यव्यापी अभियान फैमिली मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी ’आज से जलगांव ज़िले में शुरू किया गया है. यह अभियान 15 सितंबर से पूरे राज्य में लागू किया जा रहा है, जबकि अनलॉक प्रक्रिया चल रही है, इस योजना का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक जीवन को सामान्य रूप से वापस लाना है और कोविड के बढ़ते प्रसार को अधिक प्रभावी ढंग से नियंत्रित करना है. अभियान में सभी आबादी को स्वास्थ्य शिक्षा प्रदान करने, महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संदेश खोजने, संदिग्ध कोविड रोगियों को खोजने के साथ-साथ मधुमेह, हृदय रोग, गुर्दा रोग और मोटापा जैसे उच्च जोखिम वाले समूहों में लोगों की खोज और देखभाल करने पर ध्यान केंद्रित करेगा. इसी तरह, बच्चों का टीकाकरण और गर्भवती माताओं का समय पर उपचार भी योजना में शामिल है. मेरा परिवार-मेरी जिम्मेदारी ’अभियान के दौरान, स्वास्थ्य शिक्षा और कोविड रोकथाम के संदेश भी सभी को दिए जाएंगे.

अपनी और परिवार की जिम्मेदारी खुद संभालें

अभियान का मुख्य उद्देश्य कोरोना पर काबू पाने के लिए लोगों को अपने और अपने परिवार की जिम्मेदारी खुद करना है. उन्होंने कहा कि इस महामारी को मात देने के लिए आत्मरक्षा पर जोर देने की जरूरत है. सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करने की उन्होंने अपील की है. इसी तरह स्वयंसेवकों की मदद से जिले में स्वच्छता आदि के बारे में जागरूकता फैलाई जाए. नवरात्रि त्योहार जल्द ही आ रहा है और इस संबंध में पालक मंत्री ने लोगों से सामाजिक दूरी और अन्य सावधानियों के बारे में जागरूकता पैदा करने की भी अपील की.

घबराएं नहीं, कराएं जांच

जिलाधिकारी अभिजीत राऊत ने इस मौके पर संबोधित करते हुए नागरिकों से कहा कि किसी को घबराने की आवश्यकता नहीं है. आगे बढ़कर हर नागरिक अपने स्वारथ्य की जांच कराएं. इस अभियान को 24 अक्टूबर तक 2 चरणों में पूरा किया जाएगा. कोरोना के मामले में नागरिकों में भय का माहौल है.

कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने नागरिकों को आगे आने और खुद को और अपने परिवार की जांच कराने से डरना नहीं चाहिए, ताकि हम जल्द से जल्द कोरोना मुक्त हो सकें.  प्रशासनिक मशीनरी के साथ-साथ सामाजिक कार्यकर्ताओं की भागीदारी से जलगांव जिला जल्द ही एक स्वस्थ निरोगी जिला बन जाएगा. कलेक्टर अभिजीत राऊत ने नागरिकों से अपील की है कि जांच अभियान में दल के कर्मियों को अपने परिवार के सदस्यों के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने और कोरोनावायरस से उनके परिवार की सुरक्षा करने के लिए  टीमों के साथ सहयोग करें.