आस्था पर भारी पड़ा कोरोना का डर

  • 500 वर्ष की परंपरावाला रथोत्सव रद्द

जलगांव. जिले के चोपड़ा और पारोला शहर में हर साल निकलने वाला रथोत्सव इस बार रद्द कर दिया गया है. पारोला में श्री व्यंकटेश बालाजी संस्था की ओर से हर साल नवरात्रोत्सव में वाहन और रथोत्सव धूमधाम से मनाया जाता है. इस बार कोरोना महामारी का संकट देखते हुए रथोत्सव और वाहन उत्सव रद्द कर दिया गया. यहां रथोत्सव की परंपरा लगभग 500 साल से चल आ रही है. इतने सालों में कभी भी रथोत्सव रद्द नहीं हुआ, पर इस बार कोरोना का डर आस्था पर भारी पड़ा है. चोपड़ा में वाहन उत्सव बड़े हो धूमधाम से निकाला जाता है. नवरत्रोत्सव के दौरान श्री बालाजी महाराज की मूर्ति को विभिन्न वाहनों पर विराजित कर शान से वाहन  निकाला जाता है.

उत्सवों में शामिल होते हैं हजारों भक्त

इस वाहनोत्सव में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का तांता लगता है. शहर के विभिन्न इलाकों से गुजरनेवाले रथोत्सव और वाहनोत्सव का जगह-जगह स्वागत,पूजन होता है. जिन रास्तों से वाहनोत्सव निकलता है उन रास्तों को महिलाओं द्वारा रंगोलियां बिछाकर संजोया जाता है. इस बार 17 से 25 अक्टूबर के दौरान वाहनोत्सव होना तय था तो 26 व 27 अक्टूबर को रथोत्सव निकाला जाना था. कोरोना महामारी के डर से दोनों उत्सव रद्द कर दिए गये हैं. मंदिर के पुजारी और ट्रस्टी द्वारा इस खबर की पुष्टि की गई है.

मंदिर के सामने वाहनों पर विराजमान होंगी मूर्तियां

बताया जा रहा है कि वाहनोत्सव और रथोत्सव रद्द कर दिया गया है, पर श्रद्धालुओं की भावनाओं को देखते हुए रोजाना मूर्ति विभिन्न वाहनों पर विराजित कर दर्शन के लिए मंदिर के सामने व्यवस्था की जाएगी. निर्धारित संख्या में श्रद्धालु पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर मुंह को मास्क लगाकर श्री बालाजी के दर्शन कर सकेंगे.