Farmer got electrocuted due to negligence, demand for compensation

    धुलिया. सुजलॉन कम्पनी की लापरवाही के कारण सोमवार को तहसील के किसान की करंट लगने से मौत हो गयी। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने मृतक के शव को कम्पनी के कार्यालय के प्रवेश द्वार के बाहर रखकर अनशन किया। उनकी मांग थी कि जब तक मृतक किसान को मुआवजा नहीं दिया जाता तब तक उसका अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा।

    बताते हैं कि साक्री तहसील क्षेत्र के सकरी तालुका के पेटले गांव में सुजलॉन कम्पनी की पवन चक्कियां स्थापित की गई हैं, वहीं इन पवन चक्कियों के अर्थिंग वायर में करंट उतरने से 25 वर्षीय किसान योगेश सुकलाल पाटील की मौके पर ही मौत हो गई। किसान के मौत जानकारी मिलते ही स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और युवा किसान को इलाज के लिए अस्पताल ले गए, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आक्रोशित ग्रामीणों ने शव को सुजलॉन कंपनी के कार्यालय में लाकर रख दिया। उन्होंने कम्पनी पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए कम्पनी प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

    ग्रामीणों को समझाने में जुटी रही पुलिस

    उनकी मांग थी कि मृतक के परिजनों को जब तक मुआवजा नहीं दिया जाता तब अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय निजामपुर पुलिस मौके पर पहुंची। उन्होंने ग्रामीण को समझाने की प्रयास किया और संबंधित मामले की एफआईआर दर्ज कराने का आश्वासन ग्रामीणों को दिया है। समाचार लिखे जाने तक ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े रहे।