देशी शराब के छिड़काव से लहलहाईं फसलें

  • मिर्च फसल को रोगों से बचाने किसान ने किया प्रयोग

नंदुरबार. शराब पीकर झूमते हुए आपने कई लोगों को देखा होगा. लेकिन अब तो फसलें भी शराब से लहलहाने लगी हैं. शराब से फसलों को सींचने का नुस्खा निकाला है नंदुरबार तहसील के उमर्दे के किसान रवींद्र चव्हाण ने. किसान ने बताया कि शराब इंसान के लिए हानिकारक जरूर है, पर इसका दवा के लिए अगर इस्तेमाल किया जाए तो यह बुराई से कुछ अच्छा भी कर सकती है. शराब ने कइयों का जीवन उजाड़ दिया है, पर यहां खेती में इस प्रयोग ने शराब ने एक किसान की उजड़ी हुई जिंदगी संवार दी है. 

महंगी कीटनाशक दवाओं से अच्छा किया काम

महंगे कीटनाशक जो काम नहीं कर सके, वह शराब ने कर दिखाया. नंदुरबार एक मिर्च उत्पादक बेल्ट के रूप में जाना जाता है. पिछले पांच वर्षों से जिले में जलवायु परिवर्तन के कारण मिर्च फसलों पर कई रोग लग जा रहे हैं. इसके कारण यहां मिर्च की उपज कम होती जा रही है. इससे मिर्च उत्पादक किसान परेशान हैं.

पिछले 5 साल से कीटों को लेकर किसान परेशान

किसानों ने मिर्च पर लगी बीमारी यानी कीट से बचने के कई उपाय किए. कइयों ने महंगी से महंगी कीटनाशक दवाइयां लाकर मिर्च पर छिड़कीं, पर कीटाणु नहीं मरे. किसानों ने आस ही छोड़ दी थी. अन्य किसानों की तरह रवींद्र चौहान नामक किसान ने भी अपनी 12 एकड़ खेत में मिर्ची लगाईं थी. मिर्च पर कीट लगने से सारी फसल चौपट होती नजर आने लगी तो चौहान ने भी अन्य किसानों की तरह महंगी दवाइयां लाकर छिड़की, पर कोई फायदा नहीं हुआ. अंत में किसान को आइडिया आया. 

180 मिली शराब व छाछ मिलाकर फसलों पर छिड़का

किसान ने देशी शराब का एक बाक्स लाया और इसका इस्तेमाल दवा के रूप में किया. 25 लीटर के स्प्रे पंप में 180 मिलीलीटर शराब और छाछ मिलाकर फसलों पर छिड़काव किया. किसान ने तो फसल आने की आश ही छोड़ दी थी, पर अचानक शराब का नुस्खा कारगर साबित हुआ. देखते ही देखते मिर्च पर आई कीट बीमारी सिरे से नष्ट होने लगी. 

कई अन्य किसानों ने भी अपनाया तरीका

यह देख किसान ने अपना नुस्खा जारी रखा और आज उसकी मिर्च की खेती लहरा रही है. शराब पीकर मिर्च फसल झूमती नजर आ रही है. जब से क्षेत्र में किसान का दारूवाला नुस्खा काम कर रहा है, तब से कई किसानों ने जिज्ञासावश चौहान की राह पर चलना शुरू कर दिया है.