Home quarantine increased infection, central team doctor reprimanded officials

    धुलिया. कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते प्रभाव को कम करने और इलाज (Treatment) की समीक्षा करने केंद्रीय दल ने जिले के विभिन्न स्थानों पर मरीजों से बातचीत का सर्वेक्षण किया। इसके बाद डीएम कार्यालय में समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय समिति के सदस्य डॉ. रामप्रताप सैनी (Rampratap Saini) ने कहा कि चार तहसीलों में बढ़ता संक्रमण चिंताजनक है, इसे नियंत्रण करने के लिए जिला प्रशासन व्यापक पैमाने पर बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराकर होम क्वारंटाइन मरीजों (Home Quarantine Patients)को कोविड केअर सेंटर (Covid Care Center) में भर्ती कराएं।

     सेंटरों में बुनियादी सुविधाओं के साथ परीक्षणों की संख्या में वृद्धि कराएं। सर्वाधिक परीक्षण आरटीपीसीआर के कराएं। उन्होंने अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि होम क्वारंटाइन के कारण संक्रमण बढ़ा है। तत्काल इसे बंद कराया जाए इसके स्थान पर मरीजों को कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराने के निर्देश दिए हैं, वहां जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाए।  मरीजों का बारीकी से गहन इलाज किया जाए।

    कॉन्टॅक्ट ट्रेसिंग बढ़ाए

    डा.  सैनी ने कहा कि मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कोविड केयर सेंटरों में साधारण बेड के साथ ऑक्सीजन बेड की संख्या में वृद्धि कराएं। कोरोना वायरस की श्रृंखला को तोड़ने के लिए जिला प्रशासन व्यापक पैमाने पर नागरिकों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सख्त से सख्त कदम उठाएं। नागरिकों को मास्क पहनने सहित राज्य सरकार के नियमों का पालन करने के लिए जागरूक करें।

    एंटीजन निगेटिव आने पर RTPCR टेस्ट कराएं

    डॉ. साधु खान ने समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जाए। लक्षणग्रस्त रोगियों का रैपिड एंटीजन परीक्षण नेगेटिव आने पर उनका आरटीपीसीआर परीक्षण कराएं। घर-घर निरीक्षण अभियान चलाया जाए। कोविड रोगियों को उपचार प्रदान करते हुए टीकाकरण अभियान को बड़े पैमाने पर चलाया जाए। कोरोना वायरस से संक्रमित रोगियों की मौतों का विश्लेषण किया जाना चाहिए। 24 घंटे के भीतर परीक्षण रिपोर्ट प्राप्त करने की योजना भी बनाएं।

    मरीज के उपचार में न होने पर लापरवाही

    केंद्रीय स्वास्थ्य टीम के सदस्यों ने ज़िला प्रशासन द्वारा किए गये प्रयासों की सराहना की है। उन्होंने कहा कि जिस तरह पहली लहर में सबने एक साथ आकर कोरोना से जंग लड़ी थी ठीक उसी प्रकार सावधानी बरतते हुए यह जंग लड़नी है और जीतनी भी है। प्रशासन द्वारा किया जा रहा कार्य सराहनीय है। ध्यान रहें कि किसी भी मरीज के उपचार में किसी भी प्रकार की लापरवाही न होने पाए।

    जिले में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए विभिन्न उपाय किए जा रहे हैं। परिणाम स्वरूप, मृत्यु दर कम हुई। परीक्षणों की संख्या में वृद्धि कराई गई है। स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से जिला अस्पताल में 24 घंटे कोविड कक्ष स्थापित किया गया है। तालुका स्तर पर ऑक्सीजन बेड का निर्माण किया गया है। तालुका स्तर पर ऑक्सीजन टैंक प्रस्तावित हैं। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए धन उपलब्ध कराया जा रहा है।

    - संजय यादव, जिला कलेक्टर

    स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में निरीक्षण अभियान चलाया जा रहा है। प्रत्येक प्राथमिक और उप-केंद्र स्तर पर टीकाकरण शुरू हो गया है।

    - वान्मथी सी., जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी

    पुलिस द्वारा कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जा रहे हैं, बिना मास्क और आदेशों के उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जा रही है।

    - चिन्मय पंडित, एसपी धुलिया