ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे अस्पताल

  • सरकारी-निजी अस्पतालों में बढ़ी 3 गुना सिलेंडरों की मांग
  • मरीजों का स्वास्थ्य खतरे में

जलगांव. ऑक्सीजन के बढ़ते दाम और अब पर्याप्त उपलब्धता न होने से कोरोना वायरस के संक्रमण का इलाज करवा रहे मरीजों की जान सांसत में है. सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की खपत अचानक दो से तीन गुना तक बढ़ गई है जबकि ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली कंपनियों के प्लांट में उसका उत्पादन मांग के अनुरूप नहीं हो पा रहा है. ऑक्सीजन की बढ़ती डिमांड के चलते ज़िले में ऑक्सीजन के वेंडर्स ने कालाबाजारी शुरू कर दी है. जरूरतमंदों से निर्धारित मूल्य से दोगुना-तीगुना तक दाम वसूला जा रहा है.कोरोना के बढ़ते मामले के बीच जलगांव की तहसीलों में ऑक्सीजन की कमी की बात सामने आई है.प्रशासन से नागरिकों ने अस्पतालों के साथ निजी तौर पर ऑक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति सुनिश्चित कराने का अनुरोध किया है.जलगांव जिले में रोगियों की बढ़ती संख्या के कारण, ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी महसूस की जा रही है.

स्वास्थ्य प्रणाली पर बढ़ा दबाव

जिले में कोरोना संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है. हर दिन सैकड़ों नए सकारात्मक रोगी सामने आ रहे हैं. नतीजतन, स्वास्थ्य प्रणाली पर तनाव बढ़ रहा है. जिले में ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति कम पड़ने लगी है. क्योंकि कोरोना रोगियों की संख्या में विस्फोट हुआ है. रोगियों की संख्या में अचानक वृद्धि के कारण गंभीर कोरोना रोगियों के लिए हर दिन हजारों ऑक्सीजन सिलेंडरों की आवश्यकता हैं. ऐसे में ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग में वृद्धि हुई है.

भविष्य में और जटिल होगी समस्या

मांग के अनुसार ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति नहीं की जा रही है. सप्लायरों को जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति करना असंभव हो रहा है, और निकट भविष्य में स्थिति और खराब होने की संभावना व्यक्त की जा रही है.

जलगांव जिले में कोरोना रोगियों की कुल संख्या 40,000 की दहलीज पर है. वर्तमान में, उनमें से लगभग 10,000 कोरोना के सक्रिय रोगी हैं और अस्पतालों में उनका इलाज चल रहा है. चिंता की बात है कि इनमें से एक हजार से अधिक मरीज गंभीर स्थिति में हैं और उन्हें वेंटिलेटर के साथ-साथ ऑक्सीजन की भी जरूरत है.

वेंटिलेटर की तुलना में आक्सीजन बेड पर अधिक मरीज

इन मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर की बहुत आवश्यकता है क्योंकि वेंटिलेटर की तुलना में ऑक्सीजन बेड पर अधिक मरीज हैं. पूरे जलगांव जिले में स्थिति को ध्यान में रखते हुए, जिले के मुख्य सरकारी मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों यानी जिला कोविड अस्पताल, नगर निगम अस्पतालों, 3 उप-जिला अस्पतालों, 18 ग्रामीण अस्पतालों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और स्वास्थ्य उप-केंद्रों और कोरोना के लिए अधिग्रहीत अन्य निजी अस्पतालों में अब लगभग 2400 से 2600 ऑक्सीजन सिलेंडरों की आवश्यकता चौबीसों घंटे मरीजों को लग रही है.

कोरोना रोगियों में तेजी से वृद्धि

हालांकि, राज्य भर में कोरोना रोगियों की संख्या में तेजी से वृद्धि के कारण, तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति, जो चिकित्सा ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए कच्चे माल के रूप में एक आवश्यक घटक है, की पूर्ति नहीं हो रही है,  इसलिए ऑक्सीजन उत्पादकों ने मांग पर आपूर्ति करने में असमर्थता दिखाई है. पूरे जिले में कोरोना रोगियों की संख्या को ध्यान में रखते हुए, आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन का उत्पादन करने के लिए 20 मीट्रिक टन तरल ऑक्सीजन की आवश्यकता है.हालांकि, वर्तमान में जिले के लिए केवल 12 से 14 मीट्रिक टन तरल ऑक्सीजन उपलब्ध है. जिसके कारण  रीफिलिंग प्रक्रिया में मुश्किलें पैदा हो रही है.

हाथों से निकल रही स्थिति

पिछले सप्ताह से जिले में कोरोना के मरीज रिकॉर्ड संख्या में  बड़े है. प्रशासन के हाथों से स्थिति  निकल रही है. यदि यह स्थिति जारी रही, तो अगले 15 दिनों में जिले में कोरोना से आपातकालीन स्थिति उत्पन्न होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता. कोरोना के प्रकोप से एक सप्ताह पहले जिले को केवल 350 से 400 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत थी.लेकिन अब जबकि स्थिति गंभीर है.  सौभाग्य से, जिले में अब तक ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जैसे ही जिले में कोरोना रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जिला कोविड अस्पताल में युद्ध जैसी स्थिति पैदा हो गई है.  इस बारे में जानकारी देते हुए अस्पताल के अधिष्ठाता डॉ जयप्रकाश रामानंद ने कहा कि कोविड अस्पताल में कोरोना के प्रकोप से एक दिन पहले केवल 150 से 200 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत थी.  हालांकि, अस्पताल अब केवल कोरोना रोगियों के लिए आरक्षित है और गंभीर रूप से बीमार रोगियों को जिले भर के अस्पताल में भर्ती कराया जा है.  अस्पताल में वेंटिलेटर और ऑक्सीजन के साथ लगभग 400 बेड हैं.

दूसरे सप्लायरों की ली जा रही मदद

प्रति दिन 7,000 की क्षमता के साथ 1,200 से 1,400 जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत  हो रही.  ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी मांग है, क्योंकि मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है,  इसलिए, एक आपूर्तिकर्ता से ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति समय पर नहीं हो पा रही हैं. इसलिए दूसरे सप्लायर की मदद ली जा रही है.  उन्होंने कहा कि सिलिंडरों की मांग और आपूर्ति तनावपूर्ण होती जा रही है, उन्हें नियंत्रित करने के लिए काम चल रहा है. इस तरह की जानकारी जयप्रकाश रामानंद ने दी है.ऑक्सीजन की कमी के कारण दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कोविड अस्पताल में एक ऑक्सीजन समिति का गठन किया गया है. समिति सदस्य अस्पताल के 6 ऑक्सीजन संयंत्र की 24 घंटे निगरानी कर रहे हैं ताकि सिलेंडरों की कमी न हो. छह संयंत्र एक बार में 150 से अधिक सिलेंडरों का संचालन करते हैं. इस में 24 घंटे में 1200 से 1400 सिलेंडर की खपत हो रही हैं.