फॉगिंग और एबेटिंग शुरू करने का निर्देश

  • धुलिया में डेंगू, मलेरिया के बढ़ने का खतरा
  • स्वास्थ्य विभाग ने की समीक्षा बैठक

धुलिया. शहर में इस समय डेंगू और मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारियां उत्पन्न होने की आशंकाएं बढ़ रही हैं. ऐसी स्थिति से निपटने के लिए महानगर पालिका स्थायी समिति के अध्यक्ष  सुनील बैसाने की अध्यक्षता में मनपा स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक हुई. इस बैठक में अधिकारियों, कर्मचारियों को कड़े निर्देश दिए गये. बैठक में बताया गया कि दीपावली के त्योहार को देखते हुए मनपा के स्वास्थ्य विभाग को अब सचेत हो जाना चाहिए. इन दिनों बाजारों में भी बड़ी भीड़ लगेगी. इस दौरान डेंगू और मलेरिया की पृष्ठभूमि को देखते हुए तत्काल जगह-जगह शहर में फॉगिंग और एबेटिंग का काम शुरू किया जाना चाहिए. शहर का पूरा क्षेत्र मच्छरों के लिए अनुकूल वातावरण बना रहा है और इस अवधि के दौरान डेंगू रोगियों की संख्या बढ़ रही है.

गंदगी फैलाने वालों पर हो कार्रवाई

पिछले साल डेंगू और मलेरिया से भी शहरवासी परेशान थे. उस स्थिति को देखते हुए तथा रोगों पर तत्काल नियंत्रण के लिए अभी से ठोस कार्रवाई होनी ही चाहिए. इसके अलावा नागरिकों को भी अपना कूड़ा कचरा घंटा गाड़ियों में ही डालना चाहिए. मनपा को भी गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. प्रतिबंधित या सार्वजनिक स्थानों  पर जलाने की बजाय सुरक्षित जगहों पर ही कचरा जलाना चाहिए.साफ़-सफाई और कचरा संकलन को महत्व देते हुए घंटा गाड़ियों की योजना बनाई जानी चाहिए.

वार्डों में उपलब्ध हों पर्याप्त कर्मचारी

शहर के पूरे क्षेत्र में गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए, स्वास्थ्य विभाग और मनपा के मलेरिया विभाग को डेंगू, मलेरिया और अन्य संक्रामक रोगों के प्रसार को रोकने के लिए वार्ड में पर्याप्त कर्मचारी उपलब्ध कराने चाहिए. घरेलू स्तर पर कंटेनर सर्वेक्षण, नियमित छिड़काव, फॉगिंग, एबेटिंग जन जागरूकता अभियान के साथ-साथ विशेष सफाई अभियान चलाया जाना चाहिए. साथ ही कर्मचारियों द्वारा उनके दैनिक कार्य के बारे में एक डायरी तैयार की जानी चाहिए और उसका रिकॉर्ड लिया जाना चाहिए. इस तरह के सुझाव भी बैठक से दिए गए. इस समय मनपा उपायुक्त डॉ शांताराम गोसावी, स्वास्थ्य अधिकारी महेश मोरे,सहायक स्वास्थ्य अधिकारी लक्ष्मण पाटिल, चंद्रकांत जाधव और सभी स्वच्छता निरीक्षक उपस्थित थे.