गिरीश महाजन को घेरने में जुटे खड़से!

  • महाजन समर्थक पर शिकंजे को बताई जा रही बदले की कार्रवाई

वाहिद कारकर

जलगांव. महाविकास आघाड़ी सरकार ने तत्कालीन भाजपा सरकार के संकटमोचक और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के निकटवर्ती विधायक गिरीश महाजन पर नकेल कसने का काम शुरू कर दिया है. इस तरह की चर्चाएं खानदेश की राजनीति में जोरों पर हैं.

आर्थिक अपराध शाखा ने विधायक गिरीश महाजन के विश्वासपात्र और उद्योजक सुनील झंवर को भाईचंद हीराचंद मल्टी सोसाइटी में गबन करने के आरोप में जकड़ कर महाजन को फांसने की कवायद शुरू कर दी है.  राजनीतिक हलकों में चर्चाएं गर्म हैं कि इस पूरे कांड के पीछे भाजपा से दुखी होकर एनसीपी में शामिल हुए खड़से का माइंड है.

 विश्वासपात्र झंवर पर ईओडब्ल्यू की कार्रवाई 

बताया गया है कि महाविकास आघाड़ी ने शिवसेना विधायक सरनाइक पर की गई कार्रवाई का बदला लेने के लिए छोटी  ईडी का इस्तेमाल किया है. जिसे स्थानीय लोगों ने कहा कि खड़से ने महाजन को घेरने की राजनीति शुरू कर दी है. अपराध शाखा से जांच पड़ताल के मामले को लेकर जिले में भूचाल आ गया है. जिसे खड़से की उपलब्धि मानी जा रही है. पूर्व मंत्री और वर्तमान विधायक गिरीश महाजन ने एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार पर तंज कसते हुए कहा था कि बारामती से वे शरद पवार को चुनाव हरा सकते हैं. भाजपा छोड़ एकनाथ खड़से ने एनसीपी में शामिल होते समय कहा था कि तुम्हारे पास ईडी है तो मेरे पास सीडी है. 

सरनाइक के खिलाफ हुई कार्रवाई का बदला

शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के खिलाफ की गई कार्रवाई का बदला लेने के लिए एक छोटा ईडी का इस्तेमाल किया गया है. इस तरह की चर्चा राजनीतिक हलकों में हो रही है. खड़से ने कहा कि उन्होंने 2018 से बीएचआर में हुए गबन के संबंध में शिकायत दर्ज करा रहे हैं. राजनीतिक हलकों में चर्चाएं गर्म हैं कि खड़से ने एक बार फिर बीएचआर जांच के मौके पर गिरीश महाजन को लपेटने की राजनीतिक चाल चली है.