मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती मनी

भुसावल. बोदवड तहसील के जिला परिषद उर्दू कन्या शाला में बुधवार 11 नवंबर को मौलाना अबुल कलाम आजाद की 133वीं जयंती मनाई गयी. कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला परिषद कन्या शाला के हेड मास्टर इक़बाल फयाज़ुद्दीन शेख ने की. मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती पर उनकी प्रतिमा पर पुष्प हार अर्पण करके अभिवादन किया गया. इस अवसर पर जिला परिषद कन्या शाला के हेड मास्टर इक़बाल फयाज़ुद्दीन शेख ने कहा कि भारत रत्न और भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद का जन्म 11 नवंबर 1888 को सउदी अरब के पवित्र मक्का शहर में हुआ था.

शिक्षा क्षेत्र में कलाम का विशेष योगदान

उनकी जयंती पर शिक्षा के क्षेत्र में किए गए उनके कार्यों को हम स्मरण करें और भारत देश शिक्षा के क्षेत्र में उनके किये गए अनमोल योगदान को सदैव याद रखेगा. मज़र शाह ने कहा के हर साल 11 नवंबर को देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद का जन्म राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है. इसलिए हम सभी को शिक्षा के महत्व को समझना चाहिये. इस अवसर पर स्टाफ के कार्यक्रम में जिला परिषद उर्दू कन्या शाला के हेड मास्टर इक़बाल फयाज़ुद्दीन शेख, महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के नवयुक्त सचिव मज़र मुख़्तार शाह और कोष अध्यक्ष ज़ैनुल आबेदीन स्टाफ लोग उपस्थित थे.