online

दुबई में भारतीयों के लिए बेहतर अवसर

394 विद्यार्थी वेबीनार में हुए शामिल

शादाब मेमन ने किया मार्गदर्शन

जलगांव. दुबई में जॉब के अवसर विषय पर खानदेश कॉलेज एजुकेशन सोसाइटी संचालित इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड रिसर्च जलगांव के तत्वावधान में ऑनलाइन कार्यशाला का आयोजन किया गया था. 394 विद्यार्थियों ने ऑनलाइन कार्यशाला वेबीनार में सहभागिता दर्ज कराई. दुबई स्थित शादाब मेमन ने दुबई के किन इलाकों में, किस तरह की सैलरी और कैसे उन नौकरियों की तैयारी की, इसकी विस्तृत जानकारी दी. उत्तर महाराष्ट्र के करीब 394 विद्यार्थियों को ऑनलाइन वेबीनार में मार्गदर्शन करते हुए जलगांव मूल निवासी  शादाब ने बताया कि दुबई में भारतीय मूल के छात्रों के लिए बहुत गुंजाइश है.

 7 जुलाई से फिर शुरू होगी बीजा प्रक्रिया

आम तौर पर, दुबई के लिए वीजा प्रक्रिया 7 जुलाई से फिर से शुरू होगी. दुबई में लॉक डाउन  के बाद नौकरी और व्यापार के कई अवसर उपलब्ध हैं.निर्माण, पर्यटन, और आईटी के क्षेत्र में अच्छी मांग है.दुबई में एमबीए और इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए बहुत स्कोप है.दुबई में कंपनियों को अन्य देशों की तुलना में तेजी से बढ़ावा दिया जाता है. तेजतर्रार इंग्लिश भाषा फराटे से बोलने वालों को दुबई में बहुत अवसर है.

नौकरी या व्यवसाय पर करें विचार

 90 दिन के वीजा की कीमत आमतौर पर 14,000-15,000 रुपये होती है, जबकि एक दिन के वीजा की लागत कम होती है. पर्यटक वीजा  प्राप्त करें.  खानदेश के छात्रों को दुबई में नौकरी या अपने स्वयं के व्यवसाय के लिए एक विकल्प के रूप में विचार करना चाहिए, ताकि यह रोजगार के अवसर है. इस वेबिनार का आयोजन संस्थान के निदेशक डॉ शिल्पा बेंडाले ने तो साक्षात्कार प्रशिक्षण और प्लेसमेंट हेड प्रा पुनीत शर्मा द्वारा किया गया. निदेशक डॉ शिल्पा ने कहा कि एक पखवाड़े में रोजगार पर एक समान वेबिनार आयोजित किया जाएगा.

उ.म. के छात्रों की मदद के लिए तैयार

अगर जलगांव और उत्तर महाराष्ट्र के छात्र दुबई आना चाहते हैं तो मैं उनकी मदद करने की पूरी कोशिश करूंगा. दुबई में  दक्षता के अनुसार भुगतान किया जाता है.लेकिन यह दूसरों की तुलना में बहुत बेहतर है. भारतीय रुपये और दुबई दिरहम के बीच लगभग बीस रुपये का अंतर निश्चित रूप से फायदेमंद है. दुबई में एक व्यवसाय शुरू करने के लिए, निश्चित रूप से, यहां की सरकार यथा संभव मदद करती है. यह प्रक्रिया त्वरित और आसान है.

-शादाम मेमन, जलगांव मूल निवासी