Rs 61,400 as punitive action-penalty for violation of rules. Incurred

  • जलगांव जिला व्यापारी महामंडल ने डीएम से लगाई गुहार

जलगांव. जिला व्यापारी महामंडल ने ज़िला प्रशासन से गुहार लगाई है कि व्यापारिक प्रतिष्ठानों को सातों दिन नियमित रूप से शुरू रखा जाए, इस संबंध में जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया. व्यापारी महामंडल ने जिलाधिकारी अभिजीत राऊत तथा महानगर पालिका आयुक्त सतीश कुलकर्णी को ज्ञापन सौंपकर बताया है कि चार महीनों के लॉक डाउन के बाद व्यापारिक प्रतिष्ठान शुरू किए गए हैं, किंतु समय का बंधन रखा गया है. इसी के साथ ही शनिवार रविवार को कड़ा लॉक डाउन का आदेश है, इस वजह से व्यापारिक प्रतिष्ठानों के मालिकों की कमर टूट गई है. प्रशासन ने 5 दिनों का सप्ताह किया है.

प्रतिबंध से गुलजार नहीं हो रहे बाजार

कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण बाजार गुलजार नहीं हो रहे हैं, जिसका परिणाम कारोबार पर हो रहा है. व्यापारी आर्थिक संकट में घिर चुका है.लॉक डाउन की अवधि में व्यापारियों ने दुकान के रखरखाव, किराया, बिजली बिल और कर्मियों का वेतन  आदि का बोझ वहन किया है, भले ही लॉकडाउन के कारण आय पूरी तरह से बंद हो गई थी. व्यापारिक प्रतिष्ठानों के खर्च निरंतर जारी थे.

व्यापारियों को भारी नुकसान

जिला व्यापारी महामंडल ने जिला प्रशासन को चार सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि व्यापारियों का 5 दिन का सप्ताह हो गया है. सहयोगी कर्मियों को प्रति माह के अनुसार वेतन दिया जाता है.1 महीने में 8 दिन दुकानें बंद रहती हैं. इसके चलते व्यापारियों को अतिरिक्त नुकसान उठाना पड़ रहा है. यदि 7 दिन का सप्ताह किया जाता है तो व्यापार में 25% बढ़ोतरी होगी, जिससे बाजार फिर से गुलजार होने लगेगा और व्यापारी की माली हालत भी ठीक होगी.

7 दिन का सप्ताह होने से कम होगी भीड़

7 दिन का सप्ताह होने से  बाजारों में भीड़ भी कम होगी. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी सहजता से किया जाएगा. व्यापारिक प्रतिष्ठान से संबंधित व्यक्तियों को भी रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे जनहित को देखते हुए तत्काल सात दिवसीय कारोबार का सप्ताह बड़े समय के साथ शुरू करने की मांग जलगांव जिला व्यापारी महामंडल सचिव ललित बरडीया, कार्याध्यक्ष सुरेश चिरमाडे ने ज़िलाधिकारी और मनपा आयुक्त को ज्ञापित किया है.