स्क्रैप मार्केट हटाने का प्रस्ताव हो निरस्त

  • जलगांव मुस्लिम मंच ने की मांग

जलगांव. महानगर पालिका की विशेष सभा में भंगार बाजार का 99 अनुबंध निरस्त कर दिया गया है, जिसके कारण सैकड़ों व्यक्तियों के परिवारों के सामने रोजी-रोटी और भुखमरी की समस्या पैदा हो जाएगी. तत्काल प्रभाव से इस अनुबंध को दोबारा जारी रखा जाए, इस तरह की मांग का ज्ञापन मुस्लिम मंच के बैनर तले मुख्यमंत्री के नाम से निवासी उप जिलाधिकारी को मनिहार बिरादरी के अध्यक्ष फारूक शेख के नेतृत्व में सौंपा गया. मुस्लिम मंच ने मुख्यमंत्री, नगर विकास मंत्री को संबोधित करते हुए जिला प्रशासन को सौंपे ज्ञापन में अवगत कराया है कि 1999 में तत्कालीन नगर पालिका द्वारा पारित 99 वर्षीय स्क्रैप मार्केट रिज़ॉल्यूशन 2019 में महासभा से पहले आया था और यह निर्णय लिया गया था कि रिपोर्ट का अध्ययन करने और रिपोर्ट पर आगे की कार्रवाई करने के लिए चार-सदस्यीय समिति बनाई जाएगी.

4 सदस्यीय समिति में 2 ने किया प्रस्ताव प्रस्तुत

चार सदस्यीय समिति का गठन किया गया था, चार पार्षदों में से एक नगर सेवक लगातार अनुपस्थित था, एक सदस्य ने समिति से इस्तीफा दे दिया  था. केवल दो नगर सेवकों ने प्रस्ताव प्रस्तुत किया. कमेटी में मात्र 2 सदस्य की रिपोर्ट किस तरह विश्वसनीय मानी जाएगी. एक प्रकार से कमेटी ने कानूनी स्वरूप ही खो दिया है.

स्क्रैप मार्केट में 112 दुकानें

स्क्रैप मार्केट में 112 दुकानदार हैं. यदि उन्होंने किराया और संपत्ति कर का भुगतान नहीं किया है तो उन्हें भुगतान करने का अवसर दिया जाना चाहिए है. तत्कालीन नगर पालिका ने सरकार की मंजूरी नहीं ली थी तो महानगर पालिका मंजूरी लेकर 300 से 400 परिवारों को रोजी-रोटी से वंचित ना करे.यह भी कहा गया है कि उन 112 दुकानदारों को हटानाउचित नहीं है. जिन्हें पहले उनके स्थान से हटा कर इस स्थान पर बसाया गया था.

बहुमत के बल पर किया पास

भारतीय जनता पार्टी  ने बहुमत के कारण प्रस्ताव पारित किया हैं, इस प्रस्ताव का विरोध 15 शिवसेना और 3 एमआईएम नगरसेवकों ने किया था और  प्रस्ताव को रद्द करने सदन में विरोध दर्शाया था. मुस्लिम मंच ने तत्काल जनविरोधी इस प्रस्ताव को तत्काल निरस्त करने की मांग का ज्ञापन मनियार बिरादरी अध्यक्ष फारुक शेख  राष्ट्रवादी कांग्रेस महानगराध्यक्ष मझर खान, शिवसेना महानगर उपाध्यक्ष रईस शेख,एम आय एम  जिला सहसचिव खालिद खाटीक ने निवासी उप जिलाधिकारी राहुल पाटिल के सुपुर्द किया.