मरीजों के उपचार में ढिलाई बर्दाश्त नहीं : डीएम

आधी रात को कोविड अस्पताल का किया निरीक्षण

कोरोना से जंग में जुटे रहें और रोगियों की करें सेवा 

जलगांव. जलगांव जिले में कोरोना का कहर थमने की बजाय और बढ़ता ही जा रहा है. रोज-रोज नए मरीज मिलने से जिले में दहशत का माहौल है. कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने तत्कालीन जिला धिकारी डा. अभिनाश ढाकने का तबादला कर अभिजीत राऊत को जलगांव जिले की जिम्मेदारी दी है.

नए जिलाधिकारी के सामने कोरोना की बड़ी चुनौती

राऊत के सामने जलगांव में बढ़ते कोरोना के कहर को रोकने की सबसे बड़ी चुनौती है. जिलाधिकारी का पदभार संभालते ही राऊत सक्रिय हो गए हैं. इसी के तहत उन्होंने रात में जिला कोविड अस्पताल का भौचक निरीक्षम किया. जब सब सो रहे थे, तब जलगांव जिले के नवनियुक्त जिलाधिकारी अभिजीत राऊत शहर की सड़कों पर निकल पड़े. आधी रात में जिला कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया.कोविड वार्ड के कंट्रोल रूम में पहुंचकर डीएम ने डाक्टरों के आने-जाने, दवा, सफाई और खानपान की सुविधाओं पर फीडबैक लिया.

मरीजों से करें अच्छा व्यवहार

 मेडिकल कॉलेज अधिष्ठाता जिला शल्य चिकित्सक को आगाह किया कि चिकित्सा सुविधा देने में कोई भी ढील न हो.सफाई व्यवस्था को और दुरुस्त करने के लिए कहा.कोरोना से पीड़ित व्यक्ति से मधुर व्यवहार बरतने के निर्देश दिए. कोरोना नियंत्रण को लेकर केंद्रीय टीम गत दो दिनों से जलगांव में मंथन कर रही है. मेडिकल कालेज के कोरोना वार्ड में बड़ी संख्या में मरीज जान गंवा चुके हैं. इसी के चलते डीएम ने शनिवार को लगातार दूसरे दिन और रात में औचक निरीक्षण किया. 

मरीजों के बारे में ली जानकारी

मरीजों से बात की.डीएम के मुताबिक सभी ने बेहतर फीडबैक दिया है. वार्ड में मरीजों की भर्ती, आइसोलेशन, आईसीयू में मरीजों की स्थिति की भी जानकारी ली.उन्होंने चिकित्सकों और कर्मचारियों को बिना किसी डर के कोरोना से जंग में जुटे रहने और रोगियों की सेवा का आह्वान किया. साथ ही लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों को कार्रवाई की चेतावनी भी दी.