Response to 'Janata curfew' on the second day as well, the owners themselves remained closed

    जलगांव. कोरोना (Corona) के खिलाफ जंग में जलगांव (Jalgaon) के नागरिकों का पूरा साथ मिल रहा है। कलेक्टर के ‘जनता कर्फ्यू’ (Janata Curfew) को दूसरे दिन शनिवार को चौतरफा समर्थन मिला है। बढ़ते तापमान के कारण अधिकांश नागरिक दूसरे दिन भी घरों में ही रहे। दुकानें बंद रहीं, सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा, इक्का-दुक्का लोग बहुत जरूरी काम से ही बाहर निकल रहे हैं। मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए गए हैं। 

    रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा है। जनता कर्फ्यू के कारण चालीसगांव बस स्टैंड सूना पड़ा है। मुख्य सड़कों पर इक्का-दुक्का ही बाइक सवार चल रहे हैं। बस्तियों की दुकानें जनता कर्फ्यू के दूसरे दिन दिन भी बंद रहीं। 

    सब्जी की दुकानें भी बंद

    Response to 'Janata curfew' on the second day as well, the owners themselves remained closed.

    किराना और सब्जी दुकानें भी बंद रही। व्यवसायियों ने खुद ही अपनी-अपनी दुकानों को बंद रखा। अपने आप को घरों में कैद कर कोरोना वायरस को हराने में लोग जुटे हैं।  ट्रक, टेंपो का परिचालन भी बंद रहा। इसके अलावा यात्री बसों का परिचालन भी कम हो गया है। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने को लेकर आम लोगों ने जिलाधिकारी राऊत की अपील को गंभीरता से लिया है।

    पुलिस प्रशासन भी हुआ सक्रिय

    दिहाड़ी पर काम करने वाले मजदूरों ने भी जनता कर्फ्यू के दूसरे दिन काम नहीं करने का मन बना लिया था। जिसका असर  शुक्रवार के बाद शनिवार की सुबह से ही यहां देखने को मिला। लोगों के बाहर नहीं निकलने से यहां की सड़कें और बाजार पूरी तरह सुनसान रहे। इस दौरान पुलिस प्रशासन की सक्रियता भी देखने को मिली।