डाक सप्ताह के अवसर पर संगोष्ठी का आयोजन

भुसावल. तहसील में मोडर्न रोड स्थित मुख्य डाक विभाग के अधीक्षक पीबी सेलुकर ने बताया है कि विश्व डाक दिवस के अवसर पर एक अनोखा उपक्रम शुरू किया गया है जिसमें डाक विभाग ने कहा कि आइए इस डाक सप्ताह के अवसर पर एक संगोष्ठी का आयोजन करें, जिसमें एक-दूसरे के सामने बात करने की जरूरत नहीं है. बस एक पोस्ट कार्ड इस माध्यम से काम कर सकता है.  विद्यार्थी अपने मित्र या रिश्तेदार, आपके आदर्श शिक्षक, या आपके पसंदीदा नापसंद अधिकारी, मित्रों को ध्यान में रखते हुए एक निश्चित रूप से एक पत्र लिखकर अपने विचारों को व्यक्त कर सकते हैं.

आज के इस तकनीकी युग में ई-मेल, व्हाट्सएप के करण लेखन की शैली गायब हो रही है, लेकिन डाकघर कोई पोस्ट कार्ड, अंतर्देशीय पत्र, लिफाफे अप्रचलित नहीं हैं. आज 50 पैसे का डाक एक लेटर बॉक्स में डाला जाता है और डाकिया किसी भी मौसम या हालत में इसे हमारे देश के किसी भी कोने मे जम्मू-कश्मीर से अंडमान तक बराबर पहुंचाता है. इसलिये छात्रों से निवेदन है कि कोई भी 10 छात्र, पांच पोस्ट ऑफ़िस से पोस्टकार्ड ले और उसे अपने घर वाले या करीबी दोस्त या अपने इलाके के पोस्टमैन काका को ही लिखें, या अपने आदर्श सेवानिवृत्त शिक्षक को लेखन के माध्यम से मजबूत और समृद्ध बनायें. डाक विभाग शिक्षण क्षेत्र में भी कार्य करता है.