Shops opened and closed throughout the day, most shopkeepers kept half shutter open

    जलगांव. राज्य सरकार ने रविवार को आवश्यक चीजों को छोड़कर सभी प्रकार की दुकानों को बंद करने का आदेश जारी किया था। इस पर जिला कलेक्टर अभिजीत राउत द्वारा मंगलवार दोपहर तक जिले में दिशा-निर्देश जारी नहीं करने पर दुकानदारों में भ्रम की स्थिति बनी रही। राज्य सरकार (State Government) के दिशा-निर्देशों के अनुसार जलगांव जिले (Jalgaon District) में क्या बंद (Close) रहेगा और क्या खुला (Open) रहेगा, स्पष्ट आदेशों की कमी के कारण दुकानदार दोपहर तक असमंजस की स्थिति में रहे। अधिकांश दुकानदारों ने आधे शटर बंद रखे थे।

    सुबह से ही शहर के विभिन्न स्थानों के शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, एकल दुकानें बंद रहीं। दुकानें खुलीं, फिर से बंद हुईं। ऐसा खेल दिन भर चलता रहा। राज्य सरकार ने रविवार को आवश्यक चीजों को छोड़कर सभी प्रकार की दुकानों को बंद करने का आदेश जारी किया था। इस पर जिला कलेक्टर अभिजीत राउत द्वारा  राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार जलगांव जिले में क्या बंद होगा और क्या जारी रहेगा,  सोमवार को आदेश जारी करना आवश्यक था। हालांकि, इस संबंध में कोई स्पष्ट आदेश नहीं होने के कारण व्यापारी और नागरिक मंगलवार को दुविधा में थे।

    पुलिस बंद करा रही थी दुकानें

    जिलाधिकारी अभिजीत राउत ने आदेश नहीं निकाला, जिसके चलते दिन भर कोरोना के तोड़ो श्रृंखला ‘ब्रेक द चेन’ आज से लागू नहीं हुई है। सभी तरह की दुकानें खुली रहीं। गोलानी मार्केट, फुले मार्केट, दाना बाजार, सर्राफा बाजार सहित विभिन्न व्यावसायिक परिसरों में  सुबह कई दुकानें खोली गईं।  हालांकि, पुलिस ने आकर उन्हें दुकान बंद करने को कहा। दुकानदारों ने कहा कि जिला कलेक्टर ने दुकानों को बंद करने का कोई आदेश जारी नहीं किया है। दुकानदारों की दलील सुनते ही पुलिस ने कहा कि जिलाधिकारी आदेश जारी करेंगे, तुम दुकान बंद करो। इस पर दुकानदारों ने पुलिस के सामने दुकानें बंद कीं, लेकिन पुलिस के जाते ही फिर से खोल दीं। सिंधी कॉलोनी, महाबल कॉलोनी, गणेश कॉलोनी, पिंपराला, मेहरून सहित शहर के कई स्थानों के बाजारों में ऐसा खेल देखा गया। शहर के विभिन्न स्थानों पर पुलिस के पहुंचते ही दुकानें बंद हो रही थीं। पुलिस गईं का पता चलते ही दुकानें खुलने लगती थीं। दुकानों के चालू और बंद के खेल में खरीददार नागरिक परेशान होते दिखाई दिए।

    धर्मसंकट की स्थिति में दिखी पुलिस

    दिनभर व्यापारियों में चर्चा चलती रही कि लॉकडाउन शनिवार-रविवार को लगाया गया है। अन्य दिनों में बाजार शुरू रखने के आदेश हैं। दोपहर 3 बजे तक जिलाधिकारी का आदेश प्राप्त नहीं होने से जिले में भ्रम की स्थिति बनी रही। जिलाधिकारी के आदेश नहीं निकालने के कारण पुलिस भी धर्मसंकट की स्थिति में थी कि कार्रवाई करें या नहीं करें।