अवैध रेत उत्खनन पर होगी कड़ी कार्रवाई : डीएम

जलगांव. डीएम और एसपी ने अवैध उत्खनन परिवहन रोकने के लिए कवायद शुरू कर दी है. जिसके चलते उन्होंने सोमवार को नदी में उतर कर रेत उत्खनन परिवहन के राष्ट्रपति समीक्षा और जांच की है और संबंधित अधिकारियों को रेत माफियाओं पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश भी जारी किए. रेत के अवैध उत्खनन और परिवहन की शिकायत का जिलाधिकारी अभजीत राउत ने संज्ञान लेते हुए सोमवार को गिरना नदी कि तटीय इलाकों का सर्वेक्षण किया है.

ज़िला प्रशासन के आला अफसरों की नींद शिकायत करने के बाद खुली. इस दौरान जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से इस बात पर भी जानकारी मांगी थी कि अवैध रेत परिवहन करने वाले वाहनों के तस्कर किन मार्गों का उपयोग करते हैं. अचानक निरीक्षण से तस्करों और उन्हें मदद करने वाले कर्मियों में हड़कंप मच गया है.

जिले भर के रेत समूहों की नीलामी नहीं की गई है.  इसके बावजूद रेत घाटों से बड़ी मात्रा में और व्यापक रूप से रेत का परिवहन पुलिस और राजस्व विभाग की मिलीभगत से उत्खनन किया जा रहा है. दो दिन पहले रात में नाकाबंदी की गई थी. रात में अनेक वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की गई और उनके खिलाफ पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया था.

संभागीय आयुक्त ने हाल ही में जिला प्रशासन को अवैध रेत परिवहन पर रोक लगाने और राजस्व बढ़ाने के आदेश जारी किए हैं. साथ ही अवैध रेत परिवहन को लेकर भी कुछ शिकायतें कलेक्टर को मिली थीं, जिसके चलते  जिला कलेक्टर अभिजीत राउत, जिला पुलिस अधीक्षक प्रवीण मुंडे सोमवार को अचानक गिरना नदी क्षेत्र और नीमखेड़ी के गांवों का निरीक्षण किया. इस दौरान नदी में कुछ डंपर भी मिले, लेकिन उन में बालू नहीं था. संबंधित थाने को इस संबंध में कार्रवाई के लिए निर्देशित ज़िला अधिकारी राउत ने किया है.

इस अवसर पर आला अधिकारियों के साथ निरीक्षण के वक्त अनुविभागीय अधिकारी प्रसाद मते, तहसीलदार नामदेव पाटील, पटवारी आदि उपस्थित थे. इस मौके पर राउत ने कहा कि भविष्य में रेत माफिया पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी किसी को बक्शा नहीं जाएगा.