Strict adherence to rules in Bhusawal

    भुसावल. मास्क (Masks) नहीं लगाने के कारण कोरोना (Corona) संक्रमण की दूसरी लहर ने जोरदार तरीके से शहर सहित तहसील में दस्तक दी है। हाल के दिनों में उपभोक्ता और विक्रेता सब्जी बाजार सहित अन्य बाजारों में कोरोना की लड़ाई में उपयोगी मास्क को पहनने में काफी उदासीन नजर आ रहे थे। नागरिकों को जागरूक करने के लिए पुलिस, नगर प्रशासन और शहर के पत्रकारों ने लोगों में जागरूक करने का काम किया है।

    जलगांव (Jalgaon) के बाद भुसावल (Bhusawal) हॉट स्पॉट (Hot Spot) की तरफ है। अब बाजार में कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिए विक्रेता स्वैच्छिक रूप से मास्क का उपयोग कर रहे हैं। भुसावल में कोरोना का पहला मामला पिछले साल 25 अप्रैल को सामने आया था। उसके बाद अगस्त और सितंबर में फैलने से सक्रिय रोगियों की संख्या 850 हो गई  थी, लेकिन जनवरी और फरवरी में कोरोना अब फिर से सिर उठा रहा है।

    भुसावल शहर में बढ़ रही मरीजों की संख्या

    पिछले 8 दिनों में अकेले भुसावल शहर में कोरोना के रोगियों की संख्या 50 से अधिक बढ़ी है। इससे अब प्रशासन फिर से अलर्ट हो गया है। बेफिक्री के आलम में गंभीर तस्वीर यह थी कि शहर के 90 फीसदी नागरिकों ने मास्क पहनना छोड़ दिया था। इसलिए जैसे-जैसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है, बाजार, भीड़-भाड़ वाले स्थान और सब्जी मंडी में मास्क का उपयोग बढ़ रहा है। सप्ताह के दौरान बाजार में अधिकांश विक्रेताओं और ग्राहकों ने इस नियम का पालन किया।