नेहरू युवा केंद्र मंच का लाभ उठाएं युवा

  • भाग्य नहीं, कर्म पर करें विश्वास
  • सांसद पाटिल ने युवाओं से की अपील
  • 30 युवा समूहों को खेल सामग्री वितरित

जलगांव. नेहरू युवा केंद्र जलगांव द्वारा जिले के 30 युवा समूहों को खेल सामग्री वितरित की गई. कार्यक्रम का उद्घाटन सांसद उन्मेष पाटिल ने किया. इस दौरान उन्होंने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि सौभाग्य से केवल एक प्रतिशत युवा ही सफल हो सकते हैं, जबकि 99 प्रतिशत युवा अपने प्रयास से सफल होते हैं. मैं दृढ़ता से इस पर विश्वास करता हूं तो भाग्य के भरोसे रहकर मूर्ख मत बनो. युवाओं को अपना लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए, जो खेलेगा वही खिलेगा. इसे सामने रख कर प्रयास करते रहें. निकट भविष्य में कोरोना का प्रकोप कम होते ही युवाओं के लिए दो दिवसीय शिविर का आयोजन नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में कराया जाएगा.

युवाओं को मिला है अच्छा मंच

उन्होंने कहा कि जलगांव के केंद्र को देश में सर्वश्रेष्ठ बनाने के अपने प्रयासों को जारी रखूंगा. हर किसी के विद्यार्थी जीवन में अच्छा मंच उपलब्ध नहीं होता है. इसलिए हमारे पास नेहरू युवा केंद्र का एक अच्छा मंच है, इसका लाभ उठाएं, इस तरह की अपील उन्मेष  पाटिल ने युवाओं से की है.

शरीर और मन को बनाएं निरोगी

मुख्य अतिथि जिलाध्यक्ष  तथा विधायक राजू मामा भोले ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रकृति के साथ कल तक हम खेलते थे. आज प्रकृति हमारे साथ खेल रही है. पहले आदमी प्लास्टिक को फेंकता था लेकिन अब आदमी को प्लास्टिक में जलना पड़ रहा है. नेहरू युवा केंद्र और केंद्र सरकार युवाओं के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करता है. समाज का ऋण चुकाना पड़ता है. इस  नेक भावना के साथ काम करें. शरीर और मन को निरोगी करने के लिए हर दिन एक घंटा व्यायाम करें.

मुख्य अतिथि  के रूप में भाजपा जलगांव जिला अध्यक्ष तथा विधायक राजू मामा भोले,  समूह विकास अधिकारी शशिकांत सोनवणे, नेहरू युवा केंद्र समन्वयक नरेंद्र डागर, लेखाकार अजिंक्य गवली मंच पर उपस्थित थे. नेहरू युवा केंद्र जलगांव ने जिले के 30 युवाओं को खेल सामग्री वितरित की. इनमें शतरंज बोर्ड, वॉलीबॉल, फुटबॉल, नेट, बैडमिंटन रैकेट, शटलकॉक शामिल थे. इस कार्यक्रम को सफल बनाने में नेहरू युवा केंद्र के युवा प्रतिनिधि, स्वयंसेवक चेतन वाणी, आकाश धनगर, संजय बाविस्कर, शाहरुख पिंजारी, हितेश ओत्सवाल, शिवदास कोचर, रंजीत सिंह राजपूत, दीपक सपकाले, प्रशांत बाविस्कर, नाना सोनवणे और अन्य ने आयोजन के लिए कड़ी मेहनत की.

ग्रामीण क्षेत्रों में खेल लुप्त हो गए हैं. लेकिन उन खेलों में से कुछ को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुनर्जीवित किया है. युवाओं को इन खेलों पर ध्यान देना चाहिए. युवा नशे से दूर रहें और  खुद को स्वस्थ रखें.

-विधायक भोले