महिला अत्याचारियों को दो फांसी

  • सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपति से लगाई गुहार
  • जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

जलगांव. सामाजिक कार्यकर्ताओं ने देश सहित खानदेश में महिला और लड़कियों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई है. इस संबंध में जिला प्रशासन को ज्ञापन दिया गया है. राष्ट्रपति तत्काल इस मामले में संबंधित राज्य को फटकार लगाएं और महिलाओं को पूरी तरह सुरक्षा उपलब्ध कराने की गुहार डीएम के माध्यम से लगाई है. इसे आरोपियों को तत्काल फांसी की सजा देने की मांग की है.

राष्ट्रपति को संबोधित करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता महिलाओं ने प्रशासन को अवगत कराया है कि देश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश और बिहार में भी महिलाओं और लड़कियों पर अत्याचार के मामले बढ़े हैं. दोनों प्रदेशों की सरकार महिलाओं की सुरक्षा करने में पूरी तरह विफल रही है. देश के विभिन्न हिस्सों में महिलाओं और लड़कियों पर अत्याचार की घटनाओं में वृद्धि हुई है.

बच्चियों को जलाना बेहद निंदनीय

बिहार में अल्पसंख्यक लड़कियों और उत्तर प्रदेश में दलित लड़कियों को जलाना बेहद निंदनीय और निंदनीय है. सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपति को जिला कलेक्टर के माध्यम से अत्याचार मामले में दोषियों को मारने फांसी की सजा का प्रावधान करने की मांग महासचिव जमील शेख, अलफैज फाउंडेशन के मुश्ताक सालार, अमन फाउंडेशन सैयद शाहिद, कादरिया फाउंडेशन के फारुख कादरी, मौलाना आजाद फाउंडेशन के फिरोज शेख, फैज ए तालीम फाउंडेशन जुबेर खान, फारुख अहलेकार, पठान आसिफ खान, जमीर खान, रिजवाना सालार, रईस शेख, तौसिफ़ शेख, गुलरींना सालार, ए.जी. कुलकर्णी, शाहीन अख्तर, आयेशा खान, शबाना खाटिक, कहेकाशा अंजुम आदि ने ज्ञापन सौंप कर किया है.