Migrant laborer commits suicide by hanging

माता-पिता की बीमारी और रोजगार छिनने से था परेशान

जलगांव. केंद्र सरकार ने कोरोना के कारण पूरे देश में लागू लॉकडाउन के दौरान नियमों में ढील देते हुए  व्यापार उद्योग कारखानों को शुरू करने की अनुमति दी है. इसके बावजूद युवकों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है. जिससे ज़िले में निराश हताश होकर आत्महत्या के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते ही जा रहे हैं. बुधवार को एक पैतीस वर्ष के युवक ने कारोबार बंद होने से निराश होकर सुबह 7:00 बजे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. इस घटना से विवेक नगर में सनसनी फैल गई. रामानंदनगर पुलिस थाने में अकस्मात मृत्यु का मामला दर्ज किया गया है.

परिसर में मातम का माहौल

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार राहुल वसंत पाटील (35)  विवेक कॉलोनी अपने माता पिता के साथ रहता था. राहुल के पिता हमेशा बीमार और व्हील चेयर पर बैठे रहते थे. इसी बीच मां भी बीमार हो गई. इस कारण  राहुल को माता-पिता की देखभाल करनी पड़ती थी. लॉकडाउन के कारण काम की चिंता से हताश होकर राहुल ने आधी रात में पंखे से रस्सी बांधकर आत्महत्या कर ली. सुबह मामला उजागर होते ही इलाके में खलबली मच गई. बीमार माता पिता पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है. शव उतार कर  जिला अस्पताल भेजा गया.

पुलिस मामले की जांच में जुटी

डॉ. रविंद्र महाजन ने मुआयना किया और राहुल को मृतक घोषित किया. डॉक्टर की सूचना पर पुलिस ने रामानंदन नगर पुलिस थाने में आकस्मिक मौत का मामला दर्ज किया है.अगली जांच पड़ताल हेड कांस्टेबल अनिल फेगडे व विलास पवार कर रहे हैं.