लद्दाख में शहीद हुए जवानों के परिवारों को 20 लाख की सहायता

– संजय घोड़ावत फाउंडेशन का सराहनीय उपक्रम

कोल्हापुर. भारत चीन सीमा रेखा पर पूर्वी लद्दाख की गलबान घाटी में चीन द्वारा किए गए कायरतापूर्ण हमले में 20 भारतीय वीर जवान शहीद हो गए. संजय घोडावत फाउंडेशन की ओर से इन शहीदों के परिवारों को कुल 20 लाख रुपये की प्रत्यक्ष सहायता प्रदान करने के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय की घोषणा की गई. यह राशि शहीद जवानों  के परिवारों के व्यक्तिगत खातों  में 1-1 लाख रुपयों में विभाजित कर सीधे जमा की जाएगी.

शहीदों के परिवार के साथ खड़ा होना हमारी जिम्मेदारी

संजय घोड़ावत समूह के अध्यक्ष संजय घोडावत ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से इस विषय में जानकारी दी है. इस अवसर पर बोलते हुए संजय घोडावत ने कहा कि आज हम देश की सीमाओं पर लड़ रहे सैनिकों के कारण ही सुरक्षित हैं. हमारा पूरा समूह लद्दाख में चीन की ओर से हुए कायरतापूर्ण हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों के दुख में शामिल हैं. आज पूरा भारत शोक सागर में डूब गया है. देश के लिए अपने जान की बाजी लगानेवाले इन जवानों के परिवार के साथ खड़ा रहना हम सब की नैतिक जिम्मेदारी है. इन शहीद जवानों के परिवारों को फौरी मदद के तौर पर यह राशि दी गई है.

मुसीबत के समय सदैव जरूरतमंदों के साथ

संजय घोडावत अक्सर ऐसे कठिन समय में उपेक्षित और जरूरतमंदों की हमेशा मदद करते रहते है. आज तक उन्होंने आर्थिक मदद देते हुए दृष्टिहीन लोगों के जीवन में रोशनी जगाने और सूखाग्रस्त किसानों की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है. इसके अलावा बाढ़ पीड़ितों को भोजन, वस्त्र और आसरा दिया है. वहीं शहीद हुए जवानों के परिवारों को भी मदद मुहैया करवाई है. अनाथालयों, वृद्धाश्रमों, खिलाड़ियों, स्वास्थ्य केंद्रों तथा कई समाजसेवा करनेवाले  संगठनों की मदद करके अपने सामाजिक कार्यों की विरासत को उन्होंने कायम रखा है.

पुलवामा के शहीदों के परिवारों की भी की थी मदद

फाउंडेशन की ओर से कोरोना महामारी के दौरान 5 लाख से अधिक लोगों को नि:शुल्क भोजन प्रदान किया है तथा जरूरतमंदों को मेडिकल किट भी वितरित किए है. पिछले साल पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए 44 जवानों  के परिवारों को फाउंडेशन द्वारा कुल 51 लाख रुपये प्रदान किए गए थे. संजय  घोडावत के इस निर्णय की सभी स्तर पर काफी सराहना की जा रही है.