कोरोना वायरस को 103 साल की बुजुर्ग महिला ने हराया, ऐसे बची जान

सारी दुनिया में कोरोना वायरस पूरी तरह अपना जाल फैला चुका है। इस वायरस ने वस्यक से लेकर बुजुर्गों तक सभी को प्रभावित किया है। वहीं 103 साल की झांग गुआंगफेंग करोना की लड़ाई कोजीतने वाली सबसे

सारी दुनिया में कोरोना वायरस पूरी तरह अपना जाल फैला चुका है। इस वायरस ने वस्यक से लेकर बुजुर्गों तक सभी को प्रभावित किया है। वहीं 103 साल की झांग गुआंगफेंग करोना की लड़ाई को जीतने वाली सबसे उमरदाज महिला बन गई है। बता दें कि गुआंगफेंग में करोना के वायरस मिले थे परंतु वे महज छह दिन के इलाज के बाद सही सलामत घर लौट आई हैं। वे कोरोना वायरस को मात देने वाली दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला बन गई है।

 

 

गुआंगफेंग में करोना के लक्षण मिलने पर वे अस्पताल में भर्ती हो गई। नियमित इलाज के चलते वह केवल छह दिनों में पूरी तरह स्वास्थ्य हो कर घर लौट गई। इसपर डाक्टरों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि महिला के इतने जल्दी ठीक होना चमत्कार से कम नहीं है। कोरोना वायरस कम रोग प्रतिकार क्षमता वाले लोगों पर जल्दी असर करता है। बुजुर्ग लोग जल्द इसका शिकार अधिक होते है। गुआंगफेंग का इलाज करे रहें डॉक्टर जेंग युलान ने बताया कि माइल्ड क्रोनिक ब्रॉन्काइटिस के गंभीर लक्षण नहीं मिले थे।

इससे पहले भी वुहान शहर में 101 वर्षीय एक व्यक्ति में करोना के संक्रमण मिले थे। इस बुजुर्ग शख्स की हालत गंभीर थी। वायरस मिलने पर उनमें हाइपरटेंशन, हार्ट अटैक और अल्जाइमर के लक्षण भी पाया गया था। बता दें कि वे भी इसकी चपेट से बच निकले थे।

 

करोना वायरस का आंकड़ा दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। कई लोग इसकी चपेट में हैं, तथा कई लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी है। यह संक्रमण पूरी दूनिया में तेजी के साथ फैल रहा है। जानकारी है कि अब तक 124 देश कोरोना का शिकार हो चुके हैं और कुल 1,26,367 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। पूरी दूनिया में अबतक जान गवाने वालों का आंकड़ा 4,633 के पार पहुंच चुका है और 68,304 का इलाज के बाद वापस घर लौट गए हैं।