पिता के स्नेह को सम्मान व्यक्त करने का दिन है फादर डे

विश्व में रिश्तों की ताजगी और उन रिश्तों की गहराई के महत्व को समझने, हर रिश्ते के लिए कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए एक खास दिन तय किया गया है.  मित्रता दिवस, माता दिवस, भाई, बहन, गुरू यहां तक की सृष्टि और मानव जीवन को संरक्षित रखने वाले जल, जंगल, पर्यावरण के लिए भी मानव के द्वारा कृतज्ञता जताने खास दिनों को समर्पित किया गया है.  हर साल जून महीने के तीसरे रविवार को फादर्स डे भी पिता के प्रति उनकी संतानों द्वारा अपार स्नेह और प्रेम व्यक्त किए जाने का दिन है. 2020 में 21 जून रविवार को फादर डे मनाया जा रहा है.

सम्मान और आभार व्यक्त करने का अवसर

विश्व में  फादर डे को मनाने को लेकर अलग अलग मत हैं. फादर डे से जुड़े आर्टिकलों को खंगाल कर पता चलता है कि 1907 में इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई. जबकि आधिकारिक रूप से इसे पहली बार 1910 से फादर डे के रूप में मनाया जाने का भी जिक्र है. फादर डे को मनाए जाने को लेकर जानकारों में जो भी मत मतभेद हों, लेकिन फादर डे मनाने को लेकर एक बात साफ है कि इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य और भाव एक ही है.  पिता के प्रति उनकी संतानों के कर्तव्यों के निर्वहन के लिए पिता को यह सम्मान और आभार व्यक्त करने का अवसर है. 

कई लेखों से पता यह भी चलता है इस दिन वर्जीनिया के खनन उद्योग में इस दिन भारी विस्फोट से 210 श्रमिकों की मौत हो गई थी. इन मारे  गए श्रमिकों की याद में उन्हें श्रद्धांजलि देने के रूप में भी यह दिन मनाया गया. बताते हैं 19 जून, 1907 को पहली बार श्रमिकों के प्रति संवेदना व्यक्त करने यह दिवस मना.  दूसरे मत में लोग यह भी बताते हैं कि सोनोरा स्मार्ट डोड जब छोटी थी तो उनकी मां का आकस्मिक निधन हो गया. इसके बाद डोड की देखभाल उसके पिता विलियम स्मार्ट ने की. फिर उस समय डोड ने मदर्स डे की तर्ज पर फादर्स डे मनाने की सोची. इसके बाद 19 जून 1909 को पहली बार डोड ने फादर्स डे मनाया. इसके बाद लोग मिलजुल कर 19 जून को फादर्स डे मनाने लगे. तारीखों के हिसाब से जून का तीसरा रविवार हर साल भिन्न तारीखों में आना स्वाभाविक है. सन 1924 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति कैल्विन कोली ने फादर्स डे को अपनी सहमति दे दी, जिससे फादर्स डे मनाने का रास्ता खुल गया. इसके चार दशक बाद राष्ट्रपति लिंडन जानसन ने 1966 में यह घोषणा की कि फादर्स डे हर साल जून महीने के तीसरे रविवार को मनाया जाएगा. 1972 में राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने पहली बार इस दिन को नियमित अवकाश के रूप में घोषित किया. उस समय से हर साल यह जून महीने के तीसरे रविवार को मनाया जाता है. 

इतिहास में तारीखें अलग-अलग पर एक ही है समर्पण का भाव 

फादर डे मनाने के दिवस की तारीखों दिनों का इतिहास अलग अलग हो सकता है, लेकिन अपनी संतानों के लिए पिता के निःस्वार्थ सेवा और समर्पण का भाव एक ही है. परिवार में पिता ऐसा महत्वपूर्ण स्तंभ है जो सिर्फ और सिर्फ अपने परिवार, संतान के लिए हर पल चिंतित रहता है. परिवार की ख़ुशी के लिए दिन-रात मेहनत करना और अपने बच्चों और परिवार का ख्याल रखते रखते वे खुद का ख्याल भूल जाते हैं. माँ और पिता  बच्चों का संसार हैं और जीवन में जो भूमिका पिता निभाता है उसे महसूस करने और सम्मानित करने के लिए ही फादर डे यानी पिता दिवस मनाने का चलन है. आज के बदलते दौर में जगह की कमी, संयुक्त परिवारों की टूटती परंपरा फादर डे मनाने के लिए और भी जरूरी हो जाती है. पिता की श्रम शक्ति और परिवार के प्रति उनके समर्पण के लिए एक दिन क्या हर दिन पिता के प्रेम और स्नेह को महसूस किया जाना चाहिए.