जानें कैसे निश्चित करें जीवन का लक्ष्य

    वर्तमान में युवाओं (Youngsters) की उपलब्धि के लिए अनगिनत रास्ते हैं, पर हमें स्वयं किस रास्ते को चुनना है यह हम तय नहीं कर पाते। इसके चलते हम या तो गलत रास्ता चुनकर अपना समय बर्बाद करते हैं या तो लक्ष्य निश्चित करने में उलझे रहते हैं। तो आज हम आपको बता रहे हैं कि जीवन में लक्ष्य कैसे सुनिश्चित करें…

    आजकल कॉरपोरेट जगत में धेय्य निश्चित (Goal Setting), व्यक्तिमत्व विकास (Personality Development), अपने धेय कैसे हासिल करें (How To Achieve Your Goal) ऐसे कई सारे विषयों पर बड़े-बड़े व्याख्यान दिए जाते हैं। कई सारे शिविर (Workshops) लिए जाते हैं। आज हम इस बारे में थोड़ा विस्तार (Detail) में जानेंगे और देखेंगे की यह धेय निश्चित (Goal Setting) इतना महत्वपुर्ण क्यों है और इसे कैसे किया जाता है। 

    क्यों हैं गोल सेटिंग (Goal Setting) की जरुरत?

    ‘मेरा लक्ष्य क्या है?’ यह सवाल सुनने में काफी आसान लगता है, पर ज्यादातर लोगों के लिए इसका जवाब देना बहुत ही मुश्किल होता है। हम अपने रोजाना ज़िन्दगी की परिस्थियों (Situation) के साथ तुलना (Compare) कर अपने लक्ष्य निश्चित कर सकते हैं। अगर आपको कहीं जाना है तो आप बस, ट्रेन या फ्लाइट का विकल्प (Option) देखते है और उसमें से जो आपके लिए सही है वह चुनते हैं। पर मान लीजिए आपको पता ही नहीं है कि आपको कहां जाना है, ऐसी सिचुएशन में आप कुछ नहीं कर पाते क्योंकि आपकी मंजिल तय नहीं होती है। उस परिस्थिति को पहचानना ही लक्ष्य निश्चित करना कहते हैं। एक बार आप अपना गोल डिसाइड कर लें फिर आप उसपर काम कर सकते हैं। इसीलिए लक्ष्य का तय होना बहुत जरूरी है। तो आइए जानते है इसके लिए हमें क्या करना चाहिए…

    निश्चित (Exactly) तौर पर क्या करें

    धेय निश्चित करने के लिए सबसे पहले पड़ाव में हमें आत्मपरीक्षण करना है। अपने आप से सवाल करना चाहिए, जैसे- सबसे पहले खुद को यह पूछें कि मुझे मेरे क्षेत्र में क्या काम करना है? मुझे क्या पसंद है? मुझे टेक्निकल काम पसंद है या व्यापार, कौन से क्षेत्र में मुझे आगे जाना है। ऐसा क्या है जो मुझे दिल से पसंद है। जिस फील्ड में आप जा रहे हैं उसमें पैसे पैसा ज्यादा मिलेंगे या नहीं, मुझे वह काम करना अच्छा लगेगा या नहीं? जब आप यह सारे सवाल खुद से करेंगे और आपको इसका सकारात्मक जवाब मिलेगा तो समझ लीजिए वही क्षेत्र आपके लिए बेस्ट है और आपको उसी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहिए।

    क्या जो काम आपको पसंद है, उसके साथ आपके गुण और मूल्य मिलते हैं?

    किसी भी काम के लिए जरूरी है ईमानदारी, दृढ़ता और मेहनत। सिर्फ वह काम पसंद है इसलिए आप उसे अपना करियर नहीं बना सकते। एक काम को शुरू करना और बीच रस्ते में वह काम अधूरा छोड़ के चला जाना आपको बहुत ही घातक या नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए स्वयं से ये प्रश्न पूछें कि जो काम करने की आप इच्छा रखते है या पसंद करते है उस काम से आपके गुण मिलते हैं या नहीं।

    परिवार से इस विषय पर विचार विमर्श करें 

    परिवार का आपको कितना सहयोग है यह चीज भी बहुत मायने रखती है। अक्सर लोग अपने परिवार के खिलाफ जाकर कुछ काम करना शुरू करते है पर घर परिवार के विरोध के चलते वह ज्यादा तरक्की नहीं कर पाते। ऐसे में लोग अपने काम पर पूरा फोकस नहीं कर पाते। इसीलिए आपके किसी भी काम या लक्ष्य में आपके घरवालों का योगदान भी जरूरी है। ताकि, आप सही फैसला कर अपने धेय के तरफ आगे बढ़ सकें। 

    बेहतर समय नियोजित करें 

    किसी भी काम को सफलतापूर्वक करने के लिए उसका नियोजन करना बेहद जरूरी है। ताकि, आप अपना लक्ष्य समय पर निश्चित कर सकें। लक्ष्य को निश्चित करने में आने वाली मुख्य समस्या है कि लोग अक्सर अपने पूरी ज़िंदगी लक्ष्य निश्चित करने में ही निकाल देते हैं और बाद में जब उनके plan के हिसाब से चीज़े नहीं होती तब वह बौखला जाते है और इस पूरी प्रक्रिया पर से उनका विश्वास उड़ जाता है। 

    छोटे छोटे मौके को अपनाएं 

    इंसान कब कैसे ऊंचाई हासिल करे यह कोई नहीं बता सकता इसीलिए बड़े अवसर की राह न देखते हुए हात में आये छोटे छोटे अवसर को अपनाइये ताकि आपके घ्यान में वृद्धि हो सके साथ ही आपका अनुभव बढ़े। उसी तरह आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। 

    सेहत पर दे ध्यान

    बहुत बार लोग Goal Setting के चक्कर में इतने बेकाबू हो जाते है की वह भूल जाते है की काम के आलावा भी उनकी कोई और ज़िन्दगी है। ऐसे लोग दिन में कई घंटे एक साथ काम करते रहते है और थक जाते है। इस कारण उनकी सेहत (Health) पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। इसीलिए जिंदगी किरेस में लम्बे समय तक ठीके रहने केलिए सेहत पर ध्यान दे।