लॉकडाउन : दुनिया में कंडोम की कमी, बढ़ सकते है HIV के मामले!

नई दिल्ली.कोरोना वायरस ने दुनिया में कहर मचा रखा है। इस महामारी के वजह से दुनिया भर के कारोबार ठप्प हो गए है। करीब 180 देशों में लॉकडाउन की घोषित किया गया है। जिसके बाद लोग अपने ही घरों में कैद

नई दिल्ली. कोरोना वायरस ने दुनिया में कहर मचा रखा है। इस महामारी के वजह से दुनिया भर के कारोबार ठप्प हो गए है। करीब 180 देशों में लॉकडाउन की घोषित किया गया है। जिसके बाद लोग अपने ही घरों में कैद हैं। घर में अपने परिवार के साथ समय बिता रहे है। इस दौरान लोग राशन, दवाईयों के साथ-साथ कंडोम भी खरीद रहे है। 

बता दें कि, बीते महीने में कंडोम की सबसे ज्यादा बिक्री हुई है। जिसके बाद अब बाजार में कंडोम कम पड़ रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कोरोना वायरस के कारण सभी कंपनियां बंद है। इस वजह से आने वाले समय में बाजार में कंडोम नहीं मिलेगा। जिससे कोरोना वायरस के साथ-साथ HIV एड्स के मामले भी बढ़ने की संभावना बढ़ गई है।  

दुनिया में सबसे ज्यादा कंडोम बनानेवाली कंपनी का बड़ा नुकसान हुआ हैं। एक हप्ते से भी ज्यादा समय से कंपनी ने एक भी कंडोम नहीं बनाया है। इस वजह से आने वाले समय में कंडोम की कमी से करीब 748 करोड़ का नुकसान होने की आशंका है। डुरेक्स जैसी बड़ी कंपनी को बड़ा नुकसान हो रहा है।

मलेशिया की प्रसिद्ध कंडोम कंपनी केरेक्स बीएचडी के मुख्य कार्यकारी गोह मिया किट ने बताया कि, "फैक्ट्री फिर से शुरू करने में समय लगेगा। इस वजह अधिक क्षमता पर मांग कायम रखने के लिए संघर्ष जारी है। लेकिन कंडोम की वैश्विक कमी हर जगह भयानक है।" 

जानकारी के लिए बता दें कि, मलेशिया में कोरोना वायरस से 2,470 लोग संक्रमित है। वहीं 34 लोगों की इस जानलेवा वायरस से मौत हो गई। मलेशिया में भी 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है। इस वजह से कंडोम बनाना बंद है। चीन भी कंडोम बनाने वाला एक प्रमुख देश है। लेकिन कोरोना वायरस से यहां की कंपनिया बंद है। जिसके कारण अब पूरी दुनिया में कंडोम की कमी आयी है।