ताजगी भरी स्किन के लिए ही नहीं, इन समस्याओं के लिए ऐसे इस्तेमाल करें मुल्तानी मिट्टी

    -सीमा कुमारी

    आमतौर पर, ‘मुल्तानी मिट्टी’ का इस्तेमाल चेहरे की खूबसूरती बरकार रखने के लिए किया जाता है। स्किन की तमाम तरह की परेशानियों को दूर करने से लेकर बालों की सेहत को सुधारने तक कई तरह से मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग होता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं स्किन के साथ ही मुल्तानी मिट्टी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद होती है। क्योंकि, मुल्तानी मिट्टी कई पोषक तत्वों से भरपूर होती है। ऐसे में इसका विभिन्न मामलों में सेहत के लिए जानकारी के साथ इस्तेमाल बहुत ही फायदेमंद हो सकता है। आइए जानें इस बारे में –

    • एक्सपर्ट्स के मुताबिक, यदि आपके पेट में जलन और एसिडिटी की समस्या रहती है या अल्सर की परेशानी है तो मुल्तानी मिट्टी को करीब 3 से 4 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। इसके बाद इस मिट्टी की पट्टी बनाकर पेट पर रखें, करीब 15 मिनट बाद ठंडे पानी से पेट को साफ कर लें।  ऐसा कुछ दिन करने से काफी राहत मिल सकती है।
    • कहते हैं कि, जोड़ और मांसपेशियों के दर्द में मुल्तानी मिट्टी काफी असरदार होती है। यदि दर्द वाली जगह पर मुल्तानी मिट्टी से सेंकाई की जाए तो इससे सूजन, अकड़न, जोड़ों या मांसपेशियों से जुडी दर्द आदि समस्याओं से राहत मिल सकती है। इसके लिए गर्म पानी से मिट्टी की लुगदी जैसी बनाएं। फिर इसे दर्द वाली जगह में सहता हुआ गर्म गर्म लगाएं। इसके बाद पट्टी बांध दें। 15 मिनट बाद इस मिट्टी को गर्म पानी में तौलिया डालकर साफ कर दें। फिर कुछ देर कोई कपड़ा वगैरह बांधकर उस जगह को कवर कर लें।
    • मुल्तानी मिट्टी में बेहतरीन एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। इसलिए, इसका उपयोग एंटीसेप्टिक की तरह भी किया जाता है। ये स्किन पर जले और कटे हुए स्थान से संक्रमण को हटाने का काम भी करती है। साथ ही इसे रोजाना लगाने से जलने या कटने का निशान भी गायब हो जाता है।